अवांस फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड ने आईपीओ के लिए सेबी के पास दाखिल किया ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (डीआरएचपी)

डीआरएचपी लिंक: https://investmentbank.kotak.com/downloads/afsl-DRHP.pdf

देश में संचालित शिक्षा केंद्रित गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी ("एनबीएफसी") अवांस फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड ने आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) के लिए सेबी के पास ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (डीआरएचपी) दाखिल किया है।
अवांस फाइनेंशियल सर्विसेज 31 मार्च, 2024 तक प्रबंधन के तहत परिसंपत्तियों ("एयूएम") के हिसाब से भारत में दूसरी सबसे बड़ी शिक्षा केंद्रित एनबीएफसी है (स्रोत: क्रिसिल रिपोर्ट)। वित्तीय वर्ष 2023 के दौरान इसका दूसरा सबसे अधिक डिसबर्समेंट हुआ और भारत में शिक्षा केंद्रित एनबीएफसी के बीच अवांस फाइनेंशियल ने वित्तीय वर्ष 2024 में कर के बाद दूसरा सबसे अधिक लाभ दर्ज किया। कंपनी फुल स्टैक एजुकेशन ऑफरिंग प्रदान करती है। इसमें छात्रों के लिए शिक्षा ऋण से लेकर शिक्षा संस्थानों के लिए ग्रोथ केपिटल जुटाने के लिए एजुकेशन इन्फ्रास्ट्रक्चर लोन भी शामिल है (स्रोत: क्रिसिल रिपोर्ट)। छात्र-ऋण - अंतर्राष्ट्रीय और शिक्षा ऋण - घरेलू व्यवसायों के माध्यम से, कंपनी भारतीय छात्रों और पेशेवरों को ऋण और अन्य मूल्यवर्धित सेवाएं प्रदान करती है, जिन्हें विदेशों में या घरेलू संस्थानों में अध्ययन करने के लिए भर्ती कराया जाता है। यह भारत में निजी शैक्षणिक संस्थानों को कोलेटरल समर्थित फ़ाइनेंस भी प्रदान करता है।
₹3500 करोड़ तक के सार्वजनिक प्रस्ताव में ₹1000 करोड़ तक के इक्विटी शेयरों का एक नया इश्यू और “सेलिंग शेयरधारक” (“बिक्री के लिए प्रस्ताव”) द्वारा ₹5 प्रत्येक इक्विटी शेयर के अंकित मूल्य के साथ ₹2500 करोड़ तक का बिक्री का प्रस्ताव (ओएफएस) शामिल है।
ऑफर फॉर सेल में ऑलिव वाइन इन्वेस्टमेंट लिमिटेड (“प्रमोटर सेलिंग शेयरहोल्डर”) द्वारा कुल ₹1758 करोड़ तक के इक्विटी शेयर, इंटरनेशनल फाइनेंस कॉरपोरेशन द्वारा कुल ₹342 करोड़ तक के इक्विटी शेयर और केदारा कैपिटल ग्रोथ फंड III एलएलपी (“केदारा कैपिटल”, आईएफसी के साथ, “निवेशक सेलिंग शेयरहोल्डर”) (प्रमोटर सेलिंग शेयरहोल्डर, निवेशक सेलिंग शेयरधारकों के साथ, सामूहिक रूप से “सेलिंग शेयरहोल्डर” के रूप में संदर्भित) द्वारा कुल ₹400 करोड़ तक के इक्विटी शेयर शामिल हैं (“बिक्री के लिए प्रस्ताव”, और नए इश्यू के साथ, “प्रस्ताव”)।
कंपनी के प्रमोटर ऑलिव वाइन इन्वेस्टमेंट लिमिटेड हैं।
अवांस फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड इस निर्गम से होने वाली शुद्ध आय का उपयोग कंपनी के व्यवसाय और परिसंपत्तियों के विकास से उत्पन्न होने वाली भविष्य की पूंजी संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए पूंजी आधार को बढ़ाने के उद्देश्य से करने का प्रस्ताव करती है।
रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस के माध्यम से पेश किए जाने वाले इक्विटी शेयरों को स्टॉक एक्सचेंजों में सूचीबद्ध करने का प्रस्ताव है, जो बीएसई लिमिटेड (“बीएसई”) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (“एनएसई” बीएसई के साथ मिलकर, “स्टॉक एक्सचेंज”) हैं।
कोटक महिंद्रा कैपिटल कंपनी लिमिटेड, एवेंडस कैपिटल प्राइवेट लिमिटेड, जे.पी. मॉर्गन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, नोमुरा फाइनेंशियल एडवाइजरी एंड सिक्योरिटीज (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड, नुवामा वेल्थ मैनेजमेंट लिमिटेड (जिसे पहले एडलवाइस सिक्योरिटीज लिमिटेड के नाम से जाना जाता था) और एसबीआई कैपिटल मार्केट्स लिमिटेड इस इश्यू के बुक रनिंग लीड मैनेजर हैं।

Popular posts from this blog

पीएनबी मेटलाइफ सेंचुरी प्लान - आजीवन आय और पीढ़ियों के लिए सुरक्षा

एंटेरो हेल्थकेयर सॉल्यूशंस लिमिटेड ने सेबी के समक्ष दाखिल किया ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (डीआरएचपी)

जयपुर की महिला सोशल मीडिया पर मचा रही है धूम