अमृतांजन कॉम्फी ने शुरू की अधिक शहरों में मासिक धर्म स्वच्छता जागरूकता की पहल

मुंबई,05 दिसंबर, 2023: कॉम्फी स्नग फिट, अमृतांजन हेल्थ केयर का एक तेजी से बढ़ता मासिक धर्म स्वच्छता ब्रांड है। कंपनी, भारत के 1,450 शहरों में 4.5 लाख युवतियों को मासिक धर्म स्वच्छता के बारे में जागरूक कर चुकी है और अब तमिलनाडु, मध्य प्रदेश, झारखंड और उत्तर प्रदेश के 360 शहरों में इस पहल को शुरू कर रही है ताकि प्रोजेक्ट दिशा पहल के अगले चरण के हिस्से के रूप में भारत के इन चार राज्यों में अन्य 2.5 लाख छात्राओं में जागरूकता बढ़ाई जा सके।

तीसरे चरण के अंत में, अनुमान है कि प्रोजेक्ट दिशा ने देश भर के 1,800 से अधिक शहरों में 7 लाख लड़कियों के जीवन को सीधे तौर पर प्रभावित किया है। अभियान के अंग के रूप में, कंपनी ने अपने सेनेटरी पैड - कॉम्फी का भी वितरण किया, जो कपड़े की तुलना में 80% बेहतर अवशोषण प्रदान करता है और इसकी कीमत भी उचित है। प्रोजेक्ट दिशा को शुरू हुए अपने तीन साल हो चुके हैं और अब यह10 राज्यों में लागू है, जिसमें 900 कस्बे, 400 स्कूल और 100 आंगनवाड़ी केंद्र शामिल हैं। इस परियोजना ने घरों और अधिक आवाजाही वाले क्षेत्रों तक अपनी पहुंच बढ़ाई है।
प्रोजेक्ट दिशा मासिक धर्म स्वच्छता के बारे में जागरूकता बढ़ाने और महिलाओं को कपड़े के बजाय सैनिटरी पैड के उपयोग के लाभों के बारे में शिक्षित करने की अमृतांजन कॉम्फी की प्रतिबद्धता का हिस्सा है। कंपनी, महिलाओं के स्वास्थ्य और कल्याण में उचित स्वच्छता की महत्वपूर्ण भूमिका को समझती है, और यह मासिक धर्म स्वच्छता से जुड़े आवश्यक उत्पादों तक उनकी पहुंच के आड़े आने वाली बाधाओं को दूर कर उन्हें सशक्त बनाना चाहती है।
अमृतांजन हेल्थ केयर लिमिटेड के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक, श्री एस. संभु प्रसाद ने कहा, “महिलाओं की स्वच्छता को बढ़ावा देना सामान्य सामाजिक कर्तव्य से कहीं ऊपर है; यह एक मूलभूत आवश्यकता है। मज़बूत और स्वस्थ समाज को बढ़ावा देना, इस बात की गारंटी पर निर्भर करता है कि हमारे समुदायों में महिलाओं की पहुंच में न केवल शीर्ष स्तरीय और किफायती स्वच्छता उत्पाद हों, बल्कि उन्हें इस विषय पर व्यापक शिक्षा भी मिले। हम स्वीकार करते हैं कि हमारे राष्ट्र की समृद्धि इसकी महिलाओं की भलाई से गहराई से जुड़ी हुई है। हमारी अटूट प्रतिबद्धता इस अनिवार्य लक्ष्य की प्राप्ति में सक्रिय रूप से योगदान देने के लिए तैयार है।"
भारत के कई हिस्सों में मासिक धर्म स्वास्थ्य जागरूकता और जानकारी बेहद सीमित है, 15-24 वर्ष की आयु की 50% महिलाएं अभी भी सामर्थ्य और पहुंच संबंधी चुनौतियों के कारण मासिक धर्म स्वच्छता के लिए कपड़े का उपयोग करती हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं की स्वच्छता के बारे में जागरूकता बढ़ाना बेहद महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह जीवन के कई पहलुओं को सीधे प्रभावित करता है। स्वच्छता, संसाधन और ज्ञान तक पहुंच न केवल उनके स्वास्थ्य की रक्षा करती है बल्कि उन्हें सशक्त बनाती है, जिससे उनका आत्म-सम्मान और गरिमा बढ़ती है। इसके अलावा, इसकी शिक्षा में एक महत्वपूर्ण भूमिका है, क्योंकि स्वच्छता की जानकारी और संसाधन उपलब्ध होने के कारण लड़कियों को स्वच्छता संबंधी दिक्कतें कम होती हैं और उनकी  नियमित रूप से स्कूल जाने की संभावना अधिक होती है। व्यक्तिगत और शैक्षिक लाभों के अलावा, महिलाओं की स्वच्छता में सुधार के आर्थिक प्रभाव भी हो सकते हैं, जैसे स्वास्थ्य देखभाल खर्च में कमी और उन्हें आय-सृजन गतिविधियों में सक्रिय रूप से भाग लेने में सक्षम बनाना।
अमृतांजन हेल्थकेयर ने वित्त वर्ष 2012 के दौरान उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले में मासिक धर्म स्वच्छता जागरूकता पैदा करने और सैनिटरी पैड के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए संवेदना डेवलपमेंट सोसाइटी के साथ भी काम किया है। अमृतांजन को उम्मीद है कि शिक्षा, उच्च गुणवत्ता वाले उत्पादों तक पहुंच और जागरूकता के ज़रिये स्थानीय समुदाय में बदलाव होगा, महिलाओं का सशक्तिकरण होगा और सभी महिलाओं के लिए स्वस्थ भविष्य का निर्माण होगा।

Popular posts from this blog

पीएनबी मेटलाइफ सेंचुरी प्लान - आजीवन आय और पीढ़ियों के लिए सुरक्षा

एंटेरो हेल्थकेयर सॉल्यूशंस लिमिटेड ने सेबी के समक्ष दाखिल किया ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (डीआरएचपी)

जयपुर की महिला सोशल मीडिया पर मचा रही है धूम