प्रायश्चित पूजन के साथ पंचदेव प्रतिष्ठा महोत्सव का आगाज



- परम पूज्य डॉ. गुणप्रकाश चैतन्य जी महाराज ने संपादित किया पूजन 

भादरा। अखिल भारतवर्षीय धर्मसंघ व स्वामी करपात्री फांउडेशन के तत्वावधान में यज्ञ सम्राट श्री प्रबल जी महाराज की कुटिया में बुधवार को तीन दिवसीय पंचदेव प्रतिष्ठा महोत्सव का आगाज हो गया। 100 कुंडीय पंचदेव महायज्ञ, श्रीमद भागवत कथा एवं पंचदेव प्रतिष्ठा महोत्सव से पूर्व देह शुद्धि के लिए प्रायश्चित पूजन के साथ यज्ञ मंडप प्रवेश करके सभी वैदियों का आह्वान एवं स्थापना की गई। साथ ही पूज्य यज्ञ सम्राट श्री प्रबल जी महाराज के संकल्प को साकार रूप में क्रियान्वित कर रहे परम पूज्य डॉ. गुणप्रकाश चैतन्य जी महाराज ने समस्त नगरवासियों के प्रतिनिधि रूप में रहकर पूजन संपादित किया। भगवान सूर्य नारायण, भगवान विष्णु, मां दुर्गा, गणेश जी महाराज, नंदीश्वर भगवान की दिव्य विग्रह को जलाधिवास, घ्रताधिवास व धूपाधिवास आदि वैदिक परम्परा से यजन किया गया। 

आज निकलेगी भव्य कलश यात्रा 

महाशिवरात्रि महोत्सव के तहत 9 फरवरी को लुहारीवाला अतिथि सदन से दोपहर 2 बजे 5100 महिलाओं के साथ भव्य कलश यात्रा निकाली जाएगी। परम पूज्य डॉ. गुणप्रकाश चैतन्य जी महाराज के सानिध्य में श्रद्धालुगणों के साथ नगर भ्रमण के साथ कलश यात्रा मुख्य कार्यक्रम स्थल प्रबल जी की कुटिया पहुंचेगी।

100 कुंडीय पंचदेव महायज्ञ व भागवत कथा 11 से 

महोत्सव के तहत 11 से 17 फरवरी तक पंचदेव महायज्ञ व श्रीमद भागवत कथा होगी। इसमें परम श्रद्धेय समर्थश्री त्रयम्बकेश्वर चैतन्य जी महाराज के मुखारबिंद से श्रीमद भागवत कथा का रसपान रोजाना दोपहर 2 बजे से 6 बजे तक होगा। साथ ही भागवत कथा से पहले रोजाना सुबह 8 बजे से 12 बजे तक व अपरान्ह 2 बजे से शाम 6 बजे तक 100 कुंडीय श्री पंचदेव महायज्ञ होगा। श्रीमद भागवत कथा के अंत में रोजाना सांय 6 बजे काशी की दिव्य आरती होगी। 18 फरवरी, शनिवार को सुबह सवा लाख पार्थिवेश्वर महादेव का निर्माण किया जाएगा, जिनका सांय 7 बजे से रूद्राभिषेक होगा। 

ये भी होंगे आयोजन 

आयोजन समिति के सदस्य मांगीलाल महिपाल ने बताया कि इस दौरान कई और कार्यक्रम भी होंगे, जिनमें 12 फरवरी को रात 8 बजे से दीपदान सहित सामुहिक हनुमान चालीसा का पाठ, 14 फरवरी को रात 8 बजे से सुंदरकांड मित्र मंडल, भादरा की ओर से सुंदरकांड का पाठ तथा 15 फरवरी को रात 8 बजे से भजन संध्या का भी आयोजन किया जाएगा। 17 फरवरी को सांय 7 बजे से अखंड भंडारा होगा। 

शुरू हुआ संतों का आगमन

इस आयोजन के लिए देशभर से संतों का आगमन शुरू हो चुका है। बृजघाट से परम पूज्य श्री त्रंबकेश्वर चैतन्य जी महाराज एवं अनंत विभूषित 108 श्रीकृष्ण बोध आश्रम जी महाराज, श्री मधु जी महाराज के साथ यहां पहुंचने पर हिसार बाईपास पर गणमान्य नागरिकों, विभिन्न संस्थाओं के पदाधिकारियों व सदस्यों ने पुष्प वर्षा कर उनका स्वागत किया। साथ ही इन महापुरूषों के काफिले को सैकड़ों बाइक एवं गाड़ियों सहित शहर के मुख्य मार्गो से होते हुए प्रबल जी महाराज की कुटिया में लाया गयगा। इस बीच मार्ग में जगह-जगह संतों का अभिनंदन किया गया। इस अवसर पर शास्त्रीय विधि के तहत प्रबल जी महाराज की कुटिया के यज्ञ स्थल पर अनंत विभूषित परम पूज्य त्रंबकेश्वर चैतन्य जी महाराज के कर कमलों से 51 फुट ऊंचे धर्म ध्वज का रोपण किया गया। इस दिव्य अवसर पर काशी, वृंदावन, हरिद्धार, नेपाल, कुरूक्षेत्र आदि प्रांतों से आचार्यगण पधार रहे हैं। साथ ही देश के महानगरों से भी बड़ी संख्या में भगतगण दिव्य, पावन दर्शन करने के लिए पहुंच रहे हैं।  

विधायक बलवान पूनिया ने की शिरकत  

महाशिवरात्रि महोत्सव के पहले दिन स्थानीय विधायक बलवान पूनिया ने श्री प्रबल जी महाराज की कुटिया पहुंचकर परम पूज्य त्रंबकेश्वर चैतन्य जी महाराज व परम पूज्य डॉ. गुणप्रकाश चैतन्य जी महाराज से शिष्टाचार भेंट कर उनसे आर्शीवाद लिया। साथ ही विधायक ने व्यवस्थाओं का जायजा लिया। उनके साथ संयुक्त व्यापार मंडल के अध्यक्ष रंजन माणस भी थे।

Popular posts from this blog

पीएनबी मेटलाइफ सेंचुरी प्लान - आजीवन आय और पीढ़ियों के लिए सुरक्षा

स्वाल कॉर्पोरेशन ने लॉन्च किया वूक्सल मैक्रोमिक्स - गेहूं की फसल पर हीट स्ट्रेस से निपटने के लिए पोषण संबंधी एक अभिनव समाधान

किराया माफ़ी अभियान की सफलता ने जन्म दिया अॉल किराएदार महासंघ को