डिजिटल ऋण लेने से पहले उधारकर्ता इन 5 बातों का जरूर ध्यान रखें

वर्तमान डिजिटल युग में लोग जिस तरह से ऋण का लाभ उठा रहे हैं, वह पहले से काफी अलग है। पारंपरिक ऋण प्रक्रिया में, ऋण चाहने वालों को कई बार बैंक का चक्कर लगाना पड़ता था, लंबी कतारों में इंतजार करना पड़ता था, साथ ही सत्यापन के लिए कई दस्तावेज जमा करने पड़ते थे। और यह सब करने के बाद भी, ऋण की स्वीकृति की कोई निश्चितता नहीं होती थी।

हालांकि, डिजिटल ऋण प्लेटफार्मों के आगमन के साथ, अब मात्र 15 से 20 मिनट में ऋण के लिए आवेदन किया जा सकता है और इसके लिए आवश्यकता होती है, बस एक स्मार्टफोन की। उधारकर्ता डिजिटल ऋण प्रक्रिया के साथ आने वाले विभिन्न सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं, लेकिन डिजिटल ऋण के लिए आवेदन करने से पहले उन्हें कुछ बातों का ध्यान ज़रूर रखना चाहिए।

  • सोच-विचारकर चुनें: बाजार में बहुत सारे ऋणदाता उपलब्ध हैं, सभी आकर्षक ऋण प्रस्तावों के साथ उधारकर्ताओं को लुभाने के लिए तत्पर हैं। हालांकि, सभी प्रस्ताव सभी लोगों के लिए उपयुक्त नहीं होते हैं। इस प्रकार, उधारकर्ताओं को आकर्षक विज्ञापनों या लुभावने बड़े वादों से राजी होने से बचना चाहिए। इसके बजाय, उन्हें थोड़ा समय देकर ऋणदाता के साथ-साथ उनके द्वारा पेशकश किए जाने वाले विभिन्न व्यक्तिगत ऋण उत्पादों का अच्छी तरह से अध्ययन करना चाहिए। फिर, तथ्यों और विश्लेषण के आधार पर, उधारकर्ताओं को विभिन्न उधारदाताओं से विभिन्न ऋण उत्पादों का आकलन करना चाहिए और अपने लिए सबसे उपयुक्त ऋण का चुनाव करना चाहिए।
  • ऋण अदायगी की शर्तें/लचीलापन: उधारकर्ताओं को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उन्हें ईएमआई राशि के साथ-साथ ऋण अदायगी के तरीकों की दृष्टि से उनकी ऋण ईएमआई का भुगतान करने में लचीलापन दिया जा रहा है। उधारकर्ताओं को उनकी चुकौती की क्षमता के आधार पर उनकी चुकौती अवधि चुनने की अनुमति दी जानी चाहिए। उधारकर्ताओं के पास अपनी उधार ली गई राशि की कुछ किस्तों को पूर्व भुगतान करने का विकल्प भी होना चाहिए ताकि यदि उनकी आय बढ़ती है या वे अपने ऋण को जल्दी से समाप्त करना चाहते हैं, तो उन्हें अपनी ईएमआई बढ़ाने या तय किस्त से अधिक राशि चुकाने में सक्षम होना चाहिए। इसके अलावा, उधारकर्ताओं के पास ऋण अदायगी के लिए विभिन्न प्रकार विकल्प होने चाहिए, जैसे कि यूपीआई, वॉलेट, ऑनलाइन बैंकिंग और कार्ड।
  • प्रोसेसिंग समय: इंस्टैंट लोन प्रायः अन्य प्रकार के ऋणों से अलग होते हैं क्योंकि उनकी प्रोसेसिंग की गति तीव्र होती है। हालांकि, चूंकि इंस्टैंट लोन या तत्काल ऋण के लिए बैक-एंड सत्यापन की आवश्यकता होती है, इसलिए उन्हें ऑनलाइन प्रदान करने वाली कंपनियों को किसी के ऋण आवेदन को प्रोसेस करने में अधिक समय (48 घंटे तक) लग सकता है। इस प्रकार, डिजिटल ऋण प्रदाता का चयन करने से पहले, उधारकर्ताओं के लिए यह जांचना हमेशा अच्छा होता है कि धन को उनके बैंक खाते में जमा करने में कितना समय लगेगा।
  • विश्वसनीयता की जांच करेंऋण प्राप्त करने से पहले, उधारकर्ता को ऋणदाता की विश्वसनीयता के बारे में अच्छी तरह से जान लेना चाहिए। उन्हें ग्राहक समीक्षाओं पर जाकर, ऐप स्टोर पर नकारात्मक और सकारात्मक दोनों समीक्षाओं को पढ़कर, प्लेटफ़ॉर्म पर उधारदाताओं की विश्वसनीय संख्या की गणना करके और ग्राहक आधार की संख्या निर्धारित करके ऐसा करना चाहिए, जिसे आसानी से इंस्टॉल की संख्या से बेंचमार्क किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त, यह भी जाँचा जाना जरूरी है कि ऋणदाता प्लेटफॉर्म सत्यापित बैंक से संबद्ध है या भारतीय रिजर्व बैंक के साथ पंजीकृत सत्यापित ऋणदाता है।
  • परिचालन में पारदर्शिताप्रोसेसिंग शुल्क, ऋण अवधि और प्रस्तावों जैसे विवरणों के साथ-साथ ऋण स्वीकृति पत्र और ऋण अनुबंध में ऋण देने वाली इकाई के नाम जैसे कागजी कार्रवाई में, ऋण प्रदाता को पारदर्शी होना चाहिए। इसके अलावा, केवाईसी को लागू किए बिना या शुल्क विवरण या वैध पता प्रदान किए बिना कम अवधि के लिए ऋण प्रदान करने वाले किसी भी ऐप से उधारकर्ताओं को सावधान रहना चाहिए।

Popular posts from this blog

पीएनबी मेटलाइफ सेंचुरी प्लान - आजीवन आय और पीढ़ियों के लिए सुरक्षा

उदयलाल आंजना का सहकारिता मंत्री प्रभार यथावत रखने पर सहकार नेता सूरज भान सिंह आमेरा ने जताया मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आभार

महिंद्रा और मैजेंटा ने बेंगलुरू में लास्टर माइल डिलिवरी के लिए संपूर्ण ईवी समाधान महिंद्रा ट्रेओ ज़ोर लॉन्ची किया