CASE India ने पीथमपुर में कौशल विकास केंद्र का उद्घाटन किया

इंदौर 07 जून 2022: CNH Industrial के ब्रांड, केस कंस्ट्रकशन इक्विपमेंट ने कौशल विकास केंद्र का उद्घाटन किया। इस केंद्र का उद्देश्य लोडर बैकहो के परिचालन के बारे में अच्छी समझ और प्रशिक्षण प्रदान करना है। यह पहल हर साल 240 पेशेवरों को प्रशिक्षण देकर केंद्र सरकार के स्किल इंडिया मिशन में योगदान करती है। 1200 वर्गफीट के इस प्रशिक्षण केंद्र में थ्योरी क्लास और परामर्श के लिए समर्पित दो कक्षाएं शामिल हैं।

यह केंद्र सोनवई, राऊ, पीथमपुर में स्थित है। इसका उद्घाटन श्री आर के भावर, सीजीएम, एमपीआईडीसी, सुश्री लता किनवानी, राज्य कौशल विकास निगम की सलाहकार, श्री प्रदीप मधुकर, प्रिंसिपल नोडल आईटीआई, श्री राम किसन सोलंकी, सरपंच, सोनवई, श्री अभिजीत गुप्ता, उत्पाद विकास प्रमुख, केस कंस्ट्रक्शन इंडिया, श्री सतेंद्र तिवारी - प्लांट हेड, श्री पुनीत विद्यार्थी - हेड मार्केटिंग और बिजनेस डेवलपमेंट, और केस कंस्ट्रक्शन इंडिया के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में हुआ।

इस अवसर पर, श्री सतेंद्र तिवारी, प्लांट हेड - केस कंस्ट्रक्शन, इंडिया ने कहा, "हमें केंद्र की स्थापना की घोषणा करते हुए खुशी हो रही है, जिसका उद्देश्य लोगों की सीखने की महत्वाकांक्षाओं को समर्थन देना और उसे आगे बढ़ाना है। हम न केवल उनकी क्षमताओं को विकसित करने के लिए समर्पित हैं, बल्कि भविष्य में किसी भी अवसर के लिए उन्हें रोजगार तलाशने और उनके सॉफ्ट स्किल्स को विकसित करने में मदद करने के लिए भी संकल्पित हैं। हमें विश्वास है कि यह कौशल विकास केंद्र हमारे सभी प्रशिक्षुओं के लिए मूल्यवर्धन करेगा।"

इस प्रशिक्षण केंद्र में नामांकन के लिए न्यूनतम आठवीं कक्षा उत्तीर्ण और 18 से 35 वर्ष के आयु वर्ग के आवेदक प्रविष्टियां दे सकते हैं। आवेदक को एलएमवी वाणिज्यिक ड्राइविंग लाइसेंस धारक होना चाहिए। प्रशिक्षण और आवासीय सुविधा निःशुल्क प्रदान की जाएगी। प्रशिक्षुओं को सीएनएच डीलरों/ग्राहकों या अन्य लोडर बैकहो डीलरों/निर्माण स्थलों के साथ नियोजित किया जा सकता है। प्रशिक्षुओं का रोजगार जिले या राज्य के भीतर उपलब्ध प्लेसमेंट के अवसरों पर निर्भर करेगा। इस प्रोग्राम में पहले ही 30 प्रशिक्षुओं का नामांकन हो चुका है और जल्द ही इसका पहला बैच शुरू होगा।

उद्घाटन समारोह में बोलते हुए, श्री पुनीत विद्याथी, हेड-मार्केटिंग और बिजनेस डेवलपमेंट - केस कंस्ट्रक्शन, भारत और SAARC ने कहा, “केस इंडिया इस पहल के माध्यम से ग्रामीण समुदाय के युवाओं को सशक्त बनाने और प्रशिक्षुओं को व्यावसायिक अवसर प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है। लोडर बैकहो कौशल विकास कार्यक्रम के माध्यम से, हम प्रशिक्षुओं को जिले या राज्य के भीतर उद्योग में केस डीलर भागीदारों, विक्रेताओं और आपूर्तिकर्ताओं या अन्य संभावित अवसरों के माध्यम से पारिस्थितिकी तंत्र में रोजगार खोजने में मदद करेंगे। हम निर्माण उपकरण और संबंधित उद्योग में युवा व्यक्तियों के जीवन में बदलाव लाने के लिए तत्पर हैं, और आशा करते हैं कि इसका कई परिवारों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।"

यह प्रशिक्षण कार्यक्रम इंफ्रास्ट्रक्चर इक्विपमेंट सेक्टर स्किल काउंसिल द्वारा निर्धारित न्यूनतम अनिवार्य घंटों के लिए आयोजित किया जाएगा और भारत सरकार के कौशल और उद्यमिता मंत्रालय द्वारा जारी सामान्य मानदंडों और अधिसूचना के अनुसार संचालित किया जाएगा। कार्यक्रम को मोटे तौर पर जिन प्रमुख श्रेणियों में विभाजित किया जाएगा वो हैं - तकनीकी कौशल, उत्पाद और प्रक्रिया ज्ञान, स्वास्थ्य और सुरक्षा, सॉफ्ट स्किल ग्रूमिंग सॉफ्ट स्किल ग्रूमिंग जैसे कि अंतर्वैयक्तिक कौशल, व्यक्तिगत प्रबंधन, कार्य जीवन संवेदनशीलता और जीवन कौशल।

इस कार्यक्रम में बुनियादी कंप्यूटर ज्ञान मूल्यांकन और प्रमाणन, प्रशिक्षण के बाद के पाठ्यक्रम के रूप में आवधिक मूल्यांकन भी प्रदान करेगा जो केस इंडिया के विशेषज्ञों और उद्योग के पेशेवरों द्वारा संचालित किया जाएगा। सभी प्रशिक्षुओं का इंफ्रास्ट्रक्चर इक्विपमेंट सेक्टर स्किल काउंसिल रोल्स एंड रिस्पॉन्सिबिलिटीज द्वारा मूल्यांकित और प्रमाणित किया जाएगा।

केस, देश में निर्माण उपकरणों की एक पूरी श्रृंखला प्रदान करता है और यह वाइब्रेटरी कॉम्पेक्टर सेगमेंट में अग्रणी है। कंपनी घरेलू और निर्यात बाजारों के लिए मध्य प्रदेश के पीथमपुर में अपने अत्याधुनिक विनिर्माण संयंत्रसे मेड-इन-इंडिया उत्पादों का उत्पादन करती है।

Popular posts from this blog

पीएनबी मेटलाइफ सेंचुरी प्लान - आजीवन आय और पीढ़ियों के लिए सुरक्षा

उदयलाल आंजना का सहकारिता मंत्री प्रभार यथावत रखने पर सहकार नेता सूरज भान सिंह आमेरा ने जताया मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आभार

पैरेंट्स अपने बच्चों को कैसे रख सकते हैं कोविड-19 से सुरक्षित