राजस्थान के पाली जिले में शिक्षा और अधिकारिता के स्तंभ अंबुजा पब्लिक स्कूल ने पूरे किए 25 साल

मुंबई, 25 मई, 2022- भारत की सबसे सस्टेनेबल सीमेंट कंपनियों में से एक अंबुजा सीमेंट्स लिमिटेड ने सगर्व यह घोषणा की है कि राजस्थान के पाली जिले में स्थापित अंबुजा पब्लिक स्कूल ने अपनी स्थापना के 25 साल पूरे कर लिए हैं और इस साल यह स्कूल रजत जयंती वर्ष का जश्न मना रहा है। कंपनी ने अपने कर्मचारियों और विनिर्माण संयंत्रों के आसपास के समुदायों के बच्चों के लिए इस स्कूल की स्थापना की है।

1996 में राजस्थान के पाली जिले के जैतारण में स्थापित अंबुजा पब्लिक स्कूल इस क्षेत्र का पहला ऐसा स्कूल है जिसने सीबीएसई बोर्ड से संबद्धता हासिल की। आज यह राज्य में सबसे अधिक मांग वाले शैक्षणिक संस्थानों में से एक है, जिसमें 1,000 से अधिक छात्र अध्ययन कर रहे हैं। स्कूल 50 किलोमीटर के दायरे में लोगों की जरूरतों को पूरा करता है, जिसमें कम से कम 16 गांव और छोटे शहर शामिल हैं। यह इस क्षेत्र में रहने वाले लोगों के लिए ज्ञान का नखलिस्तान साबित हुआ है, और आर्थिक रूप से वंचित परिवारों के बच्चों को भी शिक्षा प्रदान करता है।

अंबुजा पब्लिक स्कूल ने समाज में विश्वास व्यक्त किया और इस क्षेत्र में रहने वाले समुदायों ने इस विश्वास के बदले कई गुना भरोसा जताया है। स्कूल में मानविकी, वाणिज्य और विज्ञान के संकायों में शिक्षा प्रदान की जाती है। इसके छात्रों ने लगातार दसवीं और बारहवीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाओं में मेरिट सूची में स्थान हासिल किया है और अनेक छात्रों ने 90 से अधिक पर्सेंटाइल अंक हासिल किए हैं।

अंबुजा पब्लिक स्कूल की प्रिंसिपल सुश्री इप्सिता चौधरी कहती हैं, ‘‘जिस साल स्कूल में मानविकी की शाखा शुरू की गई, तो उसी साल स्कूल की छात्रा सुश्री अंजू राठौड़ ने पाली जिले में पहला स्थान हासिल करके स्कूल को गौरवान्वित किया।’’ स्कूल के होनहार और प्रतिभावान छात्रों की लंबी सूची में शमिता रावल, सौभाग्य सिंह, वैभव माहेश्वरी, सलोनी वैष्णव, नेहा ज्ञानी, मनीष सिरवी, ऋचा कोठारी और इशिता तिवारी के नाम प्रमुख हैं, जिन्होंने अपने-अपने अध्ययन के क्षेत्र में एक खास मुकाम हासिल किया है। सुश्री चौधरी ने कहा, ‘‘इन परिणामों ने माता-पिता को अपने बच्चों को विशेष रूप से अपनी बेटियों को हमारे स्कूल में भेजने के लिए प्रेरित किया है और साथ ही युवाओं को अलग तरीके से सोचने और चुनौतीपूर्ण व्यवसायों को अपनाने के लिए प्रेरित किया है।’’

जिन क्षेत्रों में स्कूल के पूर्व छात्रों ने अपनी एक अलग जगह बनाई है, उनमें सिविल सेवा, फैशन और डिजाइन, वास्तुकला और इंजीनियरिंग, विजुअल आर्ट, चिकित्सा, सूचना प्रौद्योगिकी जैसे क्षेत्र भी शामिल हैं। अंबुजा सीमेंट्स लिमिटेड ने इस बात पर प्रसन्नता जाहिर की है कि स्कूल जैसे माध्यमों से भी कंपनी समाज और राष्ट्र की प्रगति में योगदान करने में सक्षम है।

स्कूल द्वारा अपनाई गई शिक्षण और सीखने की उत्कृष्ट प्रथाओं जैसे सिनेमा, योग, नाटक आदि के कारण यह सब संभव हो पाया है। स्कूल को इस बात पर भी गर्व है कि इसमें शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के छात्रों का समान अनुपात है, जो उनके बीच विचारों के प्रभावशाली आदान-प्रदान की सुविधा प्रदान करता है।

इंडिया होल्सिम के सीईओ और अंबुजा सीमेंट्स लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री नीरज अखौरी ने कहा, ‘‘किसी भी समाज में शिक्षा को एक प्रमुख स्तंभ के तौर पर पहचाना जाता है और हम अंबुजा सीमेंट्स में इसके महत्व को अच्छे तरीके से पहचानते हैं। हमारे प्रमुख सीएसआर क्षेत्रों में से एक के रूप में, समुदायों की शिक्षा का अत्यधिक महत्व है। यह जानकर खुशी हो रही है कि अंबुजा पब्लिक स्कूल ने बहुत कम समय में पाली जिले में शिक्षा के स्तर को ऊपर उठाने में उत्कृष्ट योगदान दिया है।’’

साथ ही, स्कूल लड़कियों को शिक्षित करके और सामाजिक और आर्थिक रूप से पिछड़े क्षेत्रों की लड़कियों को मुफ्त किताबें और यूनिफॉर्म प्रदान करके महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देता रहा है। इसके अलावा, कंपनी ने आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के 54 से अधिक लड़कों और लड़कियों को डेटा पैक के साथ स्मार्ट टैबलेट के प्रावधान की सुविधा प्रदान की, ताकि उनकी शिक्षा में रुकावट न आए।

अंबुजा सीमेंट्स द्वारा शिक्षा पर ध्यान देने का विचार इस तथ्य से उपजा है कि एक सशक्त समाज हमारे देश को विकास के पथ पर ले जा सकता है और शिक्षा इस सशक्तिकरण की कुंजी है।

Popular posts from this blog

पीएनबी मेटलाइफ सेंचुरी प्लान - आजीवन आय और पीढ़ियों के लिए सुरक्षा

उदयलाल आंजना का सहकारिता मंत्री प्रभार यथावत रखने पर सहकार नेता सूरज भान सिंह आमेरा ने जताया मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आभार

पैरेंट्स अपने बच्चों को कैसे रख सकते हैं कोविड-19 से सुरक्षित