उदयलाल आंजना का सहकारिता मंत्री प्रभार यथावत रखने पर सहकार नेता सूरज भान सिंह आमेरा ने जताया मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आभार

सहकारिता में जवाबदेह ,जिम्मेदार, पारदर्शी सुशासन , कल्याणकारी नीतियों ,कार्यक्रमो , योजनाओं व आंदोलन की आर्थिक सुदृढ़ता से ही 2023 में सरकार का एजेंडा होगा साकार-आमेरा

जयपुर. ऑल राजस्थान कोऑपरेटिव बैंक एम्पलॉइज यूनियन व ऑफिसर्स एसोसिएशन के प्रान्तीय महासचिव तथा सहकारी साख समितियां एम्पलॉइज यूनियन राजस्थान के प्रान्तीय अध्य्क्ष , सहकार नेता सूरज भान सिंह आमेरा ने सरकार के मंत्रिमंडल पुनर्गठन में उदय लाल आंजना का सहकारिता मंत्री के रूप में प्रभार यथावत रखने पर लोकप्रिय मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को धन्यवाद देते हुए राज्य के पैक्स से अपेक्स तक के कार्मिको की तरफ से आभार व्यक्त किया , उन्होंने इसे सहकारी आंदोलन के हित में सही निर्णय बताया है। आमेरा ने बताया कि सरकार में कार्य कुशलता , नीतियों व निर्णयों को देखते हुए चुनिंदा पूर्व मंत्रियों का ही प्रभार यथावत रखा गया है जिसमे सहकारिता मंत्रालय भी एक है इसके लिए सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना को भी बधाई एवं अभिनन्दन ।

सहकार नेता आमेरा ने विश्वास व्यक्त किया कि इससे सहकारिता में किसान , संस्थाओ, बैंको व समग्र आंदोलन की कल्याणकारी योजनाओं व कार्यक्रमो में निरंतरता से गति मिलेगी । 

 सहकारिता मंत्री आंजना से सहकार नेता आमेरा ने मुख्यमंत्री की इच्छानुसार 2023 में सरकार के एजेंडे को साकार करने के लिए सहकारी साख आंदोलन में , विशेषकर सहकारी बैंकों में जवाबदेह , जिम्मेदार , पारदर्शी कुशल प्रबंधकीय सुशाशन पर और अधिक प्राथमिकता केंद्रित कर कार्य संस्क्रति में सुधार की जरूरत बताई । उन्होंने किसानों के लिए लाभकारी बीमा योजनाओं में सुधार कर लागू करना , सहकारी बैंको में ऋण विविधीकरण के तहत विभिन्न ऋण योजनाओं को शुरू करवाना , पैक्स को कम्प्यूटरीकरण कर बैंक सीबीएस से जोड़ना , सहकारी बैंकों में रिक्त पदों पर भर्ती करना , सहकारी पैक्स में कार्मिको के नियोक्ता निर्धारण के लिए कैडर लागू करना , पैक्स/लेम्प्स में व्यवस्थापक व सहायक व्यवस्थापक की स्किरिनिंग करने के बाद रिक्त पड़े सेकड़ो पदों पर भर्ती कर पेक्स को संचालन के लिए कार्मिक उपलब्ध कराना, किसानों को पशुपालन ,डेयरी, मत्यस्य गतिविधियों के लिए ऋण वितरण करना , महिला स्वयं सहायता समूह व किसान उत्पादक समूह (एफ पी ओ ) गठन पर जोर देना , सभी सहकारी संस्थाओ ,बैंको मे आंतरिक नियंत्रण , निरीक्षण व आडिट की प्रभावी विजिलेंस व्यवस्था लागू करना , सहकारी पैक्स सहित सभी सहकारी संस्थाओ के चुनाव करवाकर लोकतांत्रिक स्वरूप बहाल करने की भी सख्त दरकार है ।

आमेरा ने उम्मीद जताई कि आंजना जी के कुशल व सौम्य नेतृत्व में सहकारिता में सरकार के अगले 2 वर्ष नीतियों , निर्णयों , कार्यक्रमो की दृष्टि से बहुत ही प्रभावी रूप से जमीनी स्तर पर रचनात्मक , प्रगतिशील व किसान , आमजन के लिए कल्याणकारी होंगे जिससे सहकारी आंदोलन की आर्थिक सक्षमता व सुदृढ़ता से किसान की खुशहाली होगी । सहकारिता मुख्यमंत्री के आह्वान 2023 में सरकार के एजेंडे के लिए बहुत ही निर्णायक व कारगर साबित होगी ।

Popular posts from this blog

पैरेंट्स अपने बच्चों को कैसे रख सकते हैं कोविड-19 से सुरक्षित

पीएनबी मेटलाइफ सेंचुरी प्लान - आजीवन आय और पीढ़ियों के लिए सुरक्षा