गहलोत बोले बीएमसीएचआरसी के सहयोग हेतु सरकार सदा तैयार



जयपुर। भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर और कैंसर केयर महिला प्रकोष्ठ के 25वें स्थापना दिवस के मौके पर कैंसर केयर भवन का शिलान्यास  मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने किया। समारोह के मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, विशिष्ठ अतिथि नगरीय विकास एवं आवासन मंत्री शांति धारीवाल के साथ समारोह में शामिल हुए। इस मौके पर अशोक गहलोत ने कहा कि बीएमसीएचआरसी मानव सेवा के लिए निरंतर कार्य कर रहा है और बगैर कोई लाभ कमाएं कैंसर रोगियों को विश्वस्तरीय उपचार उपलब्ध करा रहा है। इसलिए सरकार इस चिकित्सालय को पूर्ण रूप से सहयोग देने के लिए हर समय तैयार है। 

इस मौके पर नगरीय विकास एवं आवासन मंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि चिकित्सालय और कैंसर केयर जो कल्याणकारी योजनाएं बना रहे हैं, उसके लिए उन्हें निष्चित रूप से जमीन दी जाएगी। उन्होंने कहा कि चिकित्सालय में गरीब को निशुल्क उपचार और रहने की व्यवस्था उपलब्ध कराने से हमें गर्व होता है कि हमारे प्रदेश में ऐसा चिकित्सालय है। समारोह में एसएमएस प्रिंसिपल डॉ सुधीर भंडारी ने चिकित्सालय की ओर से किए जा रहे सेवा कार्यों की प्रशंसा की। 
500 होगी बैड क्षमता, बढेगी सुविधाएं -
चिकित्सालय के अध्यक्ष नवरतन कोठारी ने बताया कि नए भवन के निर्माण से चिकित्सालय की बैड क्षमता को बढाकर 500 किया जाएगा जिससे ज्यादा से ज्यादा मरीजों को कैंसर उपचार उपलब्ध करा सकें। इसके साथ ही चिकित्सालय की सुविधाओं का विकास किया जाएगा। इन  सुविधाओं के साथ राज्य की पहली नेक्स्ट जनरेशन सिक्वेंसिंग और टोमो थैरेपी की शुरूआत होगी। इसके साथ ही चिकित्सालय में रोबोटिक सर्जरी, हाई एंड इंटेंसिव केयर यूनिट, बोन मेरो ट्रांसप्लांट, इंटरवेंशनल रेडियोलॉजी सुविधा के लिए कैथ लैब के साथ ही अंग विशेष कैंसर उपचार की सुविधाएं शुरू की जाएगी। 
हर माह एक करोड का निशुल्क उपचार -
चिकित्सालय की वरिष्ठ उपाध्यक्षा एवं कैंसर केयर अध्यक्षा अनिला कोठारी ने बताया कि चिकित्सालय की ओर से कमजोर वर्ग के लोगों का निशुल्क उपचार किया जाता है। चिकित्सालय में सात कल्याणकारी योजनाएं चलाई जा रही है। जिसके तहत मरीजों को दवाओं समेत संपूर्ण उपचार निशुल्क उपलब्ध कराया जा रहा है। चिकित्सालय हर माह करीब एक करोड रूपए लागत का निषुल्क उपचार उपलब्ध करा रहा है। चिकित्सालय की सहयोगी संस्था कैंसर केयर रोगी एवं उनके परिजनों को भावनात्मक संबल प्रदान करने के साथ ही गरीब लोगों को निषुल्क उपचार भी उपलब्ध कराता है। 
पांच सौ लोगों को मिलेगा रोजगार -
चिकित्सालय के अधिशासी निदेशक डॉ. मेजर जनरल एससी पारीक ने बताया कि करीब 253 करोड रूपए इस विकास कार्य में खर्च होंगे। चिकित्सालय में वर्तमान 2,24,000 हजार स्क्वायर फिट कंस्ट्रक्शन  एरिया है जो निर्माण के पश्चात 3,65,000 हजार स्क्वायर फिट होगा। इसमें बैड क्षमता को बढाकर 500 करने के साथ ही ओपीडी और आईपीडी में दी जाने वाले सुविधाओं के दायरे को भी बढाया जाएगा। चिकित्सालय में इन सुविधाओं की शुरूआत से पांस सौ से अधिक लोगों को रोजगार के अवसर भी मिलेगा।

Popular posts from this blog

पीएनबी मेटलाइफ सेंचुरी प्लान - आजीवन आय और पीढ़ियों के लिए सुरक्षा

स्वाल कॉर्पोरेशन ने लॉन्च किया वूक्सल मैक्रोमिक्स - गेहूं की फसल पर हीट स्ट्रेस से निपटने के लिए पोषण संबंधी एक अभिनव समाधान

महिंद्रा और मैजेंटा ने बेंगलुरू में लास्टर माइल डिलिवरी के लिए संपूर्ण ईवी समाधान महिंद्रा ट्रेओ ज़ोर लॉन्ची किया