Posts

Showing posts with the label Medical

स्पाइसहेल्थ ने सबसे किफायती आरटी-पीसीआर (RTPCR) टेस्टिंग सीधे ग्राहकों के लिए उपलब्ध कराया

Image
जयपुर 19 मार्च 2021  – रियल-टाइम पॉलीमरेज़ चैन रिएक्शन (आरटी-पीसीआर) (RT-PCR) टेस्ट्स को हर भारतीय के लिए सबसे किफायती और आसानी से उपलब्ध होने योग्य बनाने के अपने लक्ष्य की दिशा में अगला कदम उठाते हुए स्पाइसहेल्थ ने आम जनता के लिए मात्र 499 रुपयों में, देश की सबसे सस्ती टेस्टिंग सुविधा को शुरू करने की घोषणा आज की। स्पाइसहेल्थ स्पाइसजेट के साथ साझेदारी के जरिए उनके जिन यात्रियों को अत्यंत महत्वपूर्ण कोविड टेस्ट करवाना है उनके लिए सिर्फ 299 रुपयों की विशेष कीमत में कोविड टेस्ट सुविधा उपलब्ध करायी है। यह कीमत मौजूदा मार्केट दर के एक तिहाई इतनी ही है। स्पाइसहेल्थ स्पाइसजेट के प्रमोटर्स द्वारा शुरू की गयी स्वास्थ्य सेवा कंपनी कोविड टेस्टिंग को आसान बनाने और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक पहुंचाने के लिए कई राज्य सरकारों और सरकारी चिकित्सा निकायों के साथ काम करती आ रही है। उनके द्वारा दिया जा रहा यह सहयोग आगे भी कायम रहेगा, साथ ही अब स्पाइसहेल्थ ने अपनी टेस्टिंग सुविधाओं को आम जनता के लिए खुलवाने का निर्णय लिया है ताकि महामारी के खिलाफ लड़ने  के लिए टेस्टिंग में और तेज़ी लायी जाए। अपनी टेस्टिंग सुवि

राजस्थान में 60 प्रतिषत विवाहित महिलाएं आधुनिक गर्भ निरोधक साधनों का इस्तेमाल करती हैं-पीएमए इंडिया सर्वे में सामने आई जानकारी

Image
जयपुर,18मार्च 2021- वैष्विक स्तर पर षोध के लिए पहचान रखने वाले विश्वविद्यालयों में आईआईएचएमआर यूनिवर्सिटी जयपुर राजस्थान में प्रोजेक्ट पीएमए लागू कर रही है। परफाॅर्मेंस माॅनिटरिंग फाॅर एक्षन यानी पीएमए के तहत दुनिया के नौ देषों में की जाने वाली गतिविधियों में भारत भी षामिल है। अन्य देषों मंे इथोपिया, केन्या, बर्किनोफासो, नाइजीरिया, नाइजर, यूगांडा और डेमोक्रेटिक रिपब्लिक आॅफ कांगो षामिल हैं। प्रोजेक्ट आईआईएचएमआर यूनिवर्सिटी जयपुर द्वारा लागू किया जा रहा है। इसमें झपाइगो, जाॅन हाॅपकिन्स ब्लूमबर्ग स्कूल आॅफ पब्लिक हैल्थ में स्थित बिल एंड मिलिंडा गेट्स इंस्टीट्यूट फाॅर पाॅप्युलेषन एंड रिप्रोडक्टिव हेल्थ साथ काम करेेंगे और इसे राजस्थान स्वास्ृथ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय का सहयोग प्राप्त है। प्रोजेक्ट की फंडिंग बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेषन करेगा। डाॅ. लक्षमण सिंह ओला, डायरेक्टर, आरसीएच ने कहा कि, “यह राजस्थान के लिए तेजी से किया गया और उपयोगी सर्वेक्षण है। उन्होंने कहा कि, प्रौद्योगिकी का उपयोग और इस प्रकार के डिजिटल प्लेटफार्म, गुणवत्ता स्वास्थ्य देखभाल प्रदान करने के हमारे प्रयासों को ब

समस्त कर्मचारियों और परिवारों के लिए कोविड-19 टीकाकरण का खर्च वहन करेगा पिरामल एंटरप्राइजेज लिमिटेड

Image
जयपुर 18 मार्च 2021 –  पिरामल एंटरप्राइजेज लिमिटेड (‘PEL’, NSE: PEL, BSE: 500302, 912460) ने आज अपने सभी कर्मचारियों और उनके परिवार के सदस्यों के लिए कोविड-19 टीकाकरण से संबंधित खर्च को वहन करने की घोषणा की। टीकाकरण के लिए पात्र कर्मचारियों और उनके निकट संबंधियों द्वारा भारत में टीका लगवाने पर कंपनी इस पर होने वाले खर्च की प्रतिपूर्ति करेगी। कंपनी ने भारत में अपने कार्यालयों में वर्चुअल वैक्सीन हेल्पडेस्क भी स्थापित किए हैं, ताकि कर्मचारियों के टीकाकरण से संबंधित सवालों के जवाब दिए जा सकें। इस डेस्क के माध्यम से टीके के लिए पंजीकरण कराने और टीकाकरण केंद्रों से संबंधित सभी जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी। वैक्सीन का विकल्प कर्मचारियों के विवेक पर छोड़ा गया है और उन्हें इस बारे में अपने और अपने परिवार के लिए सोच-समझकर निर्णय करने का आग्रह किया गया है। पिरामल एंटरप्राइजेज लिमिटेड की एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर नंदिनी पिरामल ने कहा, ‘‘हम मानते हैं कि कर्मचारी हमारी सबसे बड़ी संपत्ति हैं, और हम उनकी भलाई और उनका कल्याण सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं, क्योंकि यह बातें हमारे आदर्शों में ही शामिल हैं।

नारायण सेवा संस्थान ने कोरोना महामारी से निपटने के लिए आगे आए भामाशाहों का किया सम्मान

Image
जयपुर 09 मार्च 2021  – होटल जयपुर हेरिटेज में आयोजित आत्मीय स्नेह मिलन समारोह में कोरोनाकाल में उनकी मदद के लिए भामाशाहों को सम्मानित किया गया है। कोरोनाकाल में, भामाशाहों ने दान देकर नारायण सेवा संस्थान द्वारा जरूरतमंदों, नि: शक्तों और दिव्यांगों में निशुल्क राशन और मास्क वितरण, निशुल्क कृत्रिम अंग शिविर का आयोजन किया गया। सराहनीय कदमों को देखते हुए भामाशाहों ने नारायण सेवा संस्थान की प्रशंसा की। इस मौके पर संस्थान के अध्यक्ष प्रशांत अग्रवाल ने कहा कि “भामाशाहों के बिना, हमारा होना ना होने के समान है। भामाशाहों ने कोरोना जैसी कठिन स्थिति में असीमित योगदान के जरिए जरूरतमंदों और दिव्यांगों की मदद में बड़ा योगदान दिया है।” कार्यक्रम के दौरान एनएसएस के जयपुर प्रमुख मनीष खंडेलवाल ने बताया, “संस्थान में हजारों से अधिक पीड़ित लोगों के ऑपरेशन, निशुल्क जांच, निशुल्क राशन वितरण, असहाय को सिलाई, कंप्यूटर, मोबाइल रिपेयरिंग इत्यादि कोर्स निशुल्क करवाए जाते है।” कार्यक्रम में दान दाताओं में छीतर मल गुप्ता, हितेश भट्ट, हितेश सेन , निवारू आश्रम प्रमुख हुकम सिंह, सुनील कुमार सेन, समाजसेवी शीतलमल गुप्ता

35 वर्षों में, नारायण सेवा संस्थान ने दिव्यांग को व्हीलचेयर और कृत्रिम अंग किए वितरित

Image
जयपुर 02 मार्च 2021  –  पिछले 35 वर्षों में, नारायण सेवा संस्थान ने व्हीलचेयर, कृत्रिम अंग, ट्राई साइकिल और कैलीपर्स को अलग-अलग तरीके से वितरित किया है। दुर्घटना और जन्मजात दिव्यांगों की सेवा के लिए, एनजीओ ने गाँव से लेकर शहरों तक भोजन, श्रवण यंत्र और ज़रूरतमंदों को सिलाई मशीन देने के कई शिविर लगाए हैं। आंकड़ों के मुताबिक, 272353 व्हील चेयर वितरण सख्ंया, 262872 ट्राई साईकिल, 293539 बैसाखी, 55004 श्रवण यंत्र, 5220 सिलाई मशीन, 15262 कृत्रिम अंग और 355597 केलीपर का वितरण किया गया है। नारायण सेवा संस्थान के अध्यक्ष प्रशांत अग्रवाल ने बताया, “संस्थान कई वर्षों से अलग-थलग और जरूरतमंदों की सेवा कर रहा है। कई शिविरों द्वारा स्वास्थ्य, शिक्षा और कौशल अलग-अलग तरीके से प्रदान किए जा रहे हैं। कोविड के दौरान भी निशुल्क राशन किट, वस्त्र वितरण, स्कुल युनिफार्म और कम्बल वितरण किए जा रहे हैं।” राजस्थान,  उत्तर प्रदेश, हरियाणा, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में नारायण गरीब परिवार योजना के तहत, जरूरतमंदों को मुफ्त राशन किट वितरण किया जा रहा हैं।

दिव्यांग जनों को सशक्त बनाने के लिए नारायण सेवा संस्थान को मिला रोटरी फाउंडेशन का साथ

Image
जयपुर 02 मार्च 2021 –  नारायण सेवा संस्थान में रोटरी फाउंडेशन के समर्थन से प्रोस्थेटिक्स और ऑर्थोटिक्स के लिए एक सेंट्रल फेब्रिकेशन यूनिट विकसित की जा रही है। यह यूनिट दिव्यांग जनों को सशक्त बनाने के लिए एनएसएस के वैश्विक अभियान के तहत कृत्रिम अंग और उपकरण प्रदान करेगी। यूनिट में स्थापित अत्याधुनिक तकनीक गुणवत्ता और किफायती कृत्रिम अंगों की उपलब्धता सुनिश्चित करेगी और इन्हें लगाने की लागत को भी कम करने में मदद करेगी। रोटरी गवर्नर (जिला 6900) राजेश अग्रवाल ने कहा, ‘‘दिव्यांग जनों को जीवन की एक नई शुरुआत करने में सहायता करने के उद्देश्य के साथ नारायण सेवा संस्थान उन्हें निशुल्क भोजन, ऑपरेटिव सर्जरी, कृत्रिम अंग, शिक्षा और कौशल जैसी सेवाओं की पेशकश करता है और इस तरह जरूरतमंद व्यक्तियों की सेवा करने का अथक प्रयास किया जा रहा है। और अब कृत्रिम अंग निर्माण के लिए सेंट्रल फेब्रिकेशन यूनिट की स्थापना करने से दिव्यांग जनों के जीवन को बदलने के लिए एक अतिरिक्त उपलब्धि हासिल की जा सकेगी।’’ रोटरी फाउंडेशन ने दो चरणों वाले इस प्रोजेक्ट को ग्लोबल ग्रांट देने का प्रस्ताव पारित किया है। पहले चरण में रो

दुनिया की 50 फीसदी आबादी आज भी आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं से है वंचित

Image
जयपुर 23 फरवरी 2021  विकासशील देशों में यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य की दिशा में उठाए जाने वाले कदमों पर चर्चा के लिए आईआईएचएमआर यूनिवर्सिटी ने हाल ही एक वेबिनार आयोजित किया। इस वेबिनार का आयोजन एसडी गुप्ता स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ (एसडीजी-एसपीएच) के तत्वावधान में किया गया। आईआईएचएमआर के ट्रस्टी सचिव डॉ. अशोक अग्रवाल, इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ अफगानिस्तान के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री डॉ. फिरोजुद्दीन फिरोज, आयुष्मान भारत के पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) डॉ. इंदुभूषण, आईएएस, आईआईएचएमआर यूनिवर्सिटी के चेयरमैन डॉ. एस डी गुप्ता और आईआईएचएमआर यूनिवर्सिटी के प्रेसीडेंट डाॅ. पी आर सोडानी ने इस चर्चा में भाग लिया। डाॅ. डी. के. मंगल, प्रोफेसर, और डीन (रिसर्च), सलाहकार, एसडी गुप्ता स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ, आईआईएचएमआर यूनिवर्सिटी ने सत्र का संचालन किया। वेबिनार के दौरान विकासशील देशों में स्वास्थ्य कवरेज के महत्व पर महत्वपूर्ण चर्चा की गई और दुनिया भर में गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाओं के लिए बुनियादी पहुंच की आवश्यकता से संबंधित चुनौतियों पर विचार-विमर्श किया गया। वेबिनार में विचार 

राजस्थान में 5.5 लाख से अधिक लाभार्थियों ने लगाए वैक्सीन शॉट्स

Image
जयपुर, 12 फरवरी, 2021: राजस्थान में 5.5 लाख से अधिक लाभार्थियों ने वैक्सीन शॉट्स लगाए गए हैं। साथ में, राजस्थान में लगभग 600 साइटों पर वैक्सीनेशन ड्राइव चल रही है। स्वास्थ्य विभाग  के प्रोजक्ट डाईरेक्टर( टीकाकरण),डॉ. रघुराज सिंह ने कहा “पहले चरण के दौरान, हमारा लक्ष्य 8,09,171 टीकाकरण करने का था और राज्य इसका लगभग 70%  लाभार्थियों  में वैक्सीन शॉट्स लगा दिए गए है। इससे पहले कि हम अगले चरण में आगे बढ़ें, इसके लिए अधिक से अधिक संख्या में हेल्थकेयर वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स को शॉट्स दिए जाएंगे, साथ में, अधिक से अधिक वैक्सीनेशन शिविरों का आयोजन किया जाएगा।” हाल ही में, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में, राजस्थान को कोविड के टीकाकरण के प्रबंधन के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा प्रशंसा की गई है, जबकि पिछले समय में निरोगी राजस्थान योजना पर अंतर्राष्ट्रीय प्रशंसा प्राप्त की है। विशेष रूप से, राज्य के 5 जिलों में 100%  वैक्सीन शॉट्स लगाए गए हैं।  साथ में, क्रमशः 90% और 85.7% कोविशिल्ड और कोवैक्सिन  में वैक्सीन शॉट्स लगाए गए हैं। Facebook Twitter WhatsApp Linked

बजट 2021-22 के लिए नारायण सेवा संस्थान के अध्यक्ष प्रशांत अग्रवाल ने जताई उम्मीदें

Image
जयपुर 25 जनवरी 2021  – नारायण सेवा संस्थान (एनएसएस) के अध्यक्ष प्रशांत अग्रवाल ने कहा, “कोविड -19 के दौरान, पीएम गरीब कल्याण योजना के तहत, पूरे भारत में गरीब विधवाओं और दिव्यांगों को 1000 रुपये की नकद सहायता दी गई। इस पहल का भारत भर के प्रत्येक नागरिक ने स्वागत किया। लेकिन गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) दिव्यांगों के लिए वित्तीय नुकसान का कारण बन रहा है क्योंकि उन्हें उपकरणों पर कर छूट नहीं मिलती है। हम उम्मीद करते हैं कि बजट 2021-22 में जीएसटी से उपकरणों पर छूट और गैर-सरकारी संगठनों पर कर छूट होगी। ग्रामीण क्षेत्रों के अधिकांश दिव्यांग शहरों में सरकारी कार्यालयों से संचालित सरकारी कल्याणकारी योजनाओं से अपरिचित हैं। शहरी और ग्रामीण भारत के बीच असमानता को दूर करने के लिए, दिव्यांगों में मुफ्त शिक्षा, स्वास्थ्य सुविधाओं और रोजगार के अवसरों के साथ अलग से सशक्तिकरण की योजना बनाई जानी चाहिए। Facebook Twitter WhatsApp LinkedIn Telegram Share

कोविड-19 वैक्सीन के अर्थशास्त्रीय अनुसंधान पर आईआईएचएमआर विश्वविद्यालय, जयपुर और जॉन्स हॉपकिंस, यूएसए के बीच साझेदारी

Image
जयपुर, 22 दिसंबर, 2020ः आईआईएचएमआर विश्वविद्यालय जयपुर और जॉन्स हॉपकिंस ब्लूमबर्ग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ, यूएसए ने कोविड-19 के वैक्सीन की इकोनाॅमिक्स के अध्ययन के लिहाज से साझेदारी की है। इस अध्ययन में कोविड-19 वैक्सीन के संदर्भ में कम संसाधनों के बेहतर इस्तेमाल की इकोनाॅमिक्स पर स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े पेशेवरों की क्षमता निर्माण पर फोकस किया जाएगा। कोविड-19 के वैक्सीन की इकोनाॅमिक्स पर ग्लोबल ऑनलाइन पाठ्यक्रम का समापन समारोह 20 दिसंबर को वर्चुअल तौर पर आयोजित किया गया। इस पाठ्यक्रम से अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, भारत, म्यांमार, नेपाल और सोमालिया के प्रतिभागी लाभान्वित हुए हैं। आईआईएचएमआर विश्वविद्यालय जयपुर और जॉन्स हॉपकिंस ब्लूमबर्ग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ, यूएसए ने कोविड-19 की चुनौतियों के दौरान वैक्सीन कवरेज के लिहाज से आर्थिक संसाधनों का उपयोग करने के लिए वैक्सीन नीति निर्माताओं और कार्यक्रम प्रबंधकों के लिए दो नए ऑनलाइन पाठ्यक्रम तैयार किए हैं। ऑनलाइन पाठ्यक्रमों में भाग लेने वाले प्रतिभागियों ने ऑनलाइन शिक्षण सत्र के साथ-साथ वैक्सीन की मांग से संबंधित कार्यशालाओं और वैक्सीन वि

नारायण सेवा संस्थान ने दिव्यांगों के लिए कृत्रिम अंगों का किया निःशुल्क वितरण

Image
जयपुर 21 दिसंबर 2020 – कोविड -19 के दौरान, जयपुर में आमेर रोड पर नारायण सेवा संस्थान ने, विशेष रूप से नए साल के पहले दिव्यांगों के सशक्तीकरण के लिए कृत्रिम अंग और कैलीपर्स वितरित किए, जो अलग-अलग तरह के लोगों के चेहरे पर मुस्कान लाए। अनाथ, गरीब तबके के दिव्यांगों और वंचितजनों के 28 परिवारों में निःशुल्क राशन वितरण के साथ 11 दिव्यांगों में निःशुल्क कृत्रिम अंग और कैलिपर का वितरण किया गया है। नारायण सेवा संस्थान के अध्यक्ष श्री प्रशांत अग्रवाल का कहना है , “नव वर्ष के शुभ अवसर पर दिव्यांग को नई खुशियाँ देने का प्रयास है। हमारा उद्देश्य चिकित्सा उपचार, पुनर्वास, प्रतिभाओं का पोषण करना और उन्हें समाज की मुख्यधारा में लाना है। इसलिए हम अनुरोध करते हैं कि सभी दिव्यांग भाई-बहन ऐसे शिविरों में भाग लें, ताकि हमारी सेवाएं अधिक से अधिक संख्या में दिव्यांग तक पहुंच सकें। ” उदयपुर में, नारायण सेवा संस्थान के अगले अभियान में 35 वां सामूहिक विवाह समारोह आयोजित होने जा रहा है। पिछले 35 वर्षों से, नारायण सेवा संस्थान ने अलग-अलग दिव्यांगों के लिए कृत्रिम अंग वितरण, कौशल शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल, मुफ्त भो

नव्या है इंदिरा आईवीएफ की पहली किलकारी उम्मीदों का एक दशक आज पूरा हुआ

Image
जयपुर , 27 नवंबर, 2020 :  बाड़मेर ,राजस्थान का एक सुदूर इलाका है।जहाँ से यातायात इतनी भी सुगम नहीं कोई तेरह चौदह वर्षों तक जगह जगह की खाक छान सकें।लेकिन ऐसा करते थें श्री हंसराज और रेखा सोनी।संतान पाने के लिए कभी दिल्ली , कभी अहमदाबाद तो कभी जयपुर और अजमेर भी। लेकिन चौदह बरस के निःसंतानता का वनवास काटने के बाद उन्हें कहीं से इंदिरा आईवीएफ के बारे में पता चला और वो इंदिरा आईवीएफ के उदयपुर सेंटर परआएं।फिर क्या यहाँ आईवीएफ की प्रक्रिया शुरू हुई और जिसका परिणाम इनकी बेटी नव्या आज अपना दसवां जन्मदिन मना रही है। इंदिरा आईवीएफ के चेयरमैन ,आईवीएफ मैन ऑफ़ इंडिया डॉ अजय मुर्डिया ने आज नव्या को जन्मदिन की हार्दिक बधाई एवंआशीर्वाद देते हुए कहा कि "इंदिरा आईवीएफ की पहली किलकारी नव्या है ". इसके जन्म ने आज से एक दशक पहले ही कई मिथकों को तोड़ दिया था।आज इस का यहाँ इंदिरा आईवीएफ में आकर सबके साथ जन्मदिन सेलिब्रेट करना भी एक बड़ी बात है और उन दस से पंद्रह प्रतिशत दम्पतियों के लिए भी एक सीख , एक उम्मीद है जो निःसंतानता से परेशानहैं। वैसे निःसंतान दम्पतियों की सुविधा के लिए देश भर में अब इंदिरा आ

75 वर्षीय हृदय रोगी वृद्धा को मिला नया जीवनदान

Image
--ब्लूटुथ समर्थित डिवाइस होने के कारण कार्डियोलॉजिस्ट अपनी क्लीनिक पर ही जान सकता है मरीज के दिल के हाल --ब्लड पम्पिंग केवल 20 प्रतिशत होने से फेफड़ों समेत शरीर के अन्य अंगों को नहीं मिल पा रहा था पर्याप्त रक्त --सांस लेने में परेशानी के कारण रोगी महिला को कई बार आईसीयू की शरण लेनी पड़ी जयपुर।  एक तरफ कोविड-19 का खौफ  दूसरी तरफ उम्र का तकाजा, झुझुनू निवासी 75 वर्षीय एक महिला को सांस लेने में दिक्कत रहती थी। कई अस्पतालों के आईसीयू में भर्ती रहने के बावजूद उसके इस रोग का समानधान नहीं हो पाया। थक हार कर उसने अपने ही शहर के जयपुर हार्ट एण्ड मल्टीकेयर में चिकित्सकों से सम्पर्क किया। जहां हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. मुकेश यादव ने महिला की गहनता पूर्वक चिकित्कीय जांच के साथ ही कार्डियोग्राफी भी की। इन जांचों के बारे में डॉ. मुकेश यादव ने मीडिया को बताया कि कार्डियोग्राफी करने पर पाया गया कि महिला के हार्ट की सभी आर्टरीज सही तरीके से काम कर रही थी लेकिन पूरे शरीर का रक्त प्रवाहित करने वाला हार्ट पम्प केवल 20 प्रतिशत ही काम कर रहा था, जिसके चलते समुचित रक्त प्रवाह नहीं मिल पाने के कारण महिला कों सां

नारायण सेवा संस्थान ने जयपुर में निशुल्क मासिक राशन वितरण शिविर का किया आयोजन

Image
जयपुर 11 नवंबर 2020 दिवाली से पहले, कोविड -19 का मुकाबला करने के लिए रविवार को, नारायण गरीब परिवार योजना के अन्तर्गत जयपुर के  ब्रह्मपुरी इलाके में करीब 28 परिवारों के लिए निशुल्क मासिक राशन वितरण शिविर का आयोजन किया है। मुख्य अतिथि के रुप में पूर्व विधायक सुरेंद्र पारीक ने एनजीओ के द्वारा शामली, लखनऊ, वृंदावन और फिरोजाबाद जैसे विभिन्न शहरों में निशुल्क राशन किट वितरण अभियान की सराहना की। किट में 15 किलो आटा, 5 किलो चावल, 4 किलो दाल, 2 किलो तेल, 2 किलो चीनी, 1 किलो नमक और आवश्यक मसाले हैं। हाल ही में, नारायण सेवा संस्थान ने असम बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में 1000 परिवारों को निशुल्क राशन किट, सैनिटाइज़र और मास्क वितरित किए है। लॉकडाउन के बीच एनएसएस ने उत्तर प्रदेश, हरियाणा, उत्तराखंड और महाराष्ट्र में नियमित रूप से निशुल्क खाद्य वितरण अभियान चलाए गए, जहां 19,710 से अधिक परिवारों को राशन किट, 1,54,120 भोजन पैकट, 77005 मास्क, 800 पीपी किट का वितरण किया है। नारायण सेवा संस्थान के अध्यक्ष प्रशांत अग्रवाल ने कहा, “दिवाली से पहले,  नारायण गरीब परिवार योजना के तहत, जरूरतमंदों के लिए कई राज्यों

बीटो ने रिमोट हाइपरटेंशन मैनेजमेन्ट में प्रवेश के लिए ओमराॅन हेल्थकेयर इंडिया के साथ की साझेदारी

Image
जयपुर 23 अक्टूबर 2020 -क्रोनिक रोगों के प्रबंधन के लिए भारत के अग्रणी डिजिटल केयर इकोसिस्टम बीटो ने डिजिटल बीपी माॅनिटरिंग सेगमेन्ट में अग्रणी ओमराॅन हेल्थकेयर इंडिया के साथ साझेदारी की घोषणा की है। जीवनशैली से जुड़ी क्रोनिक बीमारी हाइपरटेंशन के रिमोट प्रबंधन के क्षेत्र में विस्तार के दृष्टिकोण से यह साझेदारी की गई है। साझेदारी के तहत बीटो ऐप इकोसिस्टम में ओमराॅन बीपी माॅनिटर्स को शामिल किए जाने से उपयोगकर्ता रियल टाईम में अपने ब्लड प्रेशर यानि रक्तचाप का प्रबंधन कर सकेंगे, इससे मरीज़ की रीडिंग एवं आंकड़ों के आधार पर रियल टाईम में सलाह लेना और बीपी पर नियन्त्रण रखना आसान हो जाएगा। 25 विशेषज्ञ डाॅक्टरों और स्वास्थ्य कोचों की टीम के सहयोग से बीटो ऐप का यह रिमोट एवं वर्चुअल प्रबन्धन, मरीज़ को उसकी बीपी रीडिंग एवं रूझानों के आधार पर पोषण, जीवनशैली और दवाओं के लिए रियल टाईम में सहयोग प्रदान करेगा। ‘डाॅक्टरों द्वारा सबसे ज़्यादा अनुशंसित ब्राण्ड’ और दुनिया में बीपी माॅनिटरिंग डिवाइसेज़ का नंबर 1 निर्माता ओमराॅन अब तक दुनिया भर में 200 मिलियन से अधिक युनिट्स बेच चुका है। ओमराॅन पेटेंटेड टेक्नोला

दुर्लभ पोम्पे रोग की मरीज़ ने दिया स्वस्थ बच्ची को जन्मः भारत में पहला ऐसा मामला

Image
जयपुर 09 अक्टूबर 2020 -दुर्लभ एवं आनुवंशिक बीमारी- पोम्पे रोग- के मरीज़ों और चिकित्सकों के बीच उम्मीद की नई लहर दौड़ गई, जब पिछले सप्ताह बुधवार को कोची को अमृता अस्पताल में 24 वर्षीय मरीज़ ने स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया। कोल्लम से आई इस मरीज़ की देखभाल करने वाले डाॅक्टरों ने बताया कि मां और बच्चा दोनों ठीक हैं। पोम्पे रोग एक लाइसोसोमल स्टोरेज विकार है। यह एक गंभीर बीमारी है जो जीएए जीन में असमान्यता / रोगजनक उत्परिवर्तन के कारण होती है। इस दुर्लभ रोग के मरीज़ों की मांसपेशियां कमज़ोर होती हैं और उनमें कई गंभीर जटिलताएं हो सकती हैं, अक्सर इन्हें लम्बे समय तक विशेष उपचार तथा एंज़ाइम रिप्लेसमेन्ट थेरेपी के द्वारा प्रबंधन की आवश्यकता होती है। अमृता अस्पताल में पीडिएट्रिक जेनेटिक्स की प्रमुख डाॅ शीला नामपूथिरी ने कहा, ‘‘यह भारत में पोम्पे मरीज़ का पहला मामला है जिसमें मरीज़ महिला ने अपनी गर्भावस्था को पूरा कर स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया है। यह सिर्फ इसलिए हो सका कि मरीज़ को 6 साल पहले पोम्पे रोग का निदान होने के बाद से इण्डिया चैरिटेबल एक्सेस प्रोग्राम ;प्छब्।च्द्ध के सहयोग से सैनोफी जेनज़ाइम के तहत जीव

पीएम नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन पर नारायण सेवा संस्थान ने लगाया निशुल्क सहायक उपकरण शिविर

Image
जयपुर 21 सितम्बर 2020  – नोएडा में गुरुवार को नारायण सेवा संस्थान ने पीएम नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन पर दिव्यागों में सहायक उपकरण वितरण शिविर आयोजित कर खुशिया बांटी। कोरोना के बीच सोशल डिस्टेंसिंग बनाते हुए संस्थान ने भारत सरकार के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय के साथ दिव्यांग बंधुओं को निशुल्क सहायक उपकरण एवं कृत्रिम अंगों को वितरित किया । निशुल्क उपकरण वितरण शिविर में करीब 40 दिव्यागों को बैशाखी, वॉकर और स्टिक बांटी गई हैं। हाल ही में, नारायण सेवा संस्थान ने असम के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में 1000 परिवारों को खाद्य सामग्री वितरित की है। लॉकडाउन के दौरान, एनएसएस ने लगातार राजस्थान, हरियाणा, उत्तराखंड और महाराष्ट्र में कई परिवारों को 13,800 परिवारों को राशन सामग्री, 1,37,000 से अधिक भोजन के पैकेट, 68000 मास्क, 800 पीपीई किट वितरित किए हैं। नारायण सेवा संस्थान के अध्यक्ष प्रशांत अग्रवाल ने कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में कोरोना जैसी स्थिति से निपटने के लिए उत्कृष्ट कराया हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए, हमने निशुल्क उपकरण वितरण शिविर के माध्यम से अलग-अलग तरीकों से खुश

बीटो लेकर आया निःशुल्क वर्चुअल डायबिटीज़ क्लिनिक

Image
जयपुर 25 अगस्त 2020 - – डायबिटीज देखभाल एवं प्रबंधन में भारत के अग्रणी डिजिटल इकोसिस्टम- बीटो ने निःशुल्क वर्चुअल डायबिटीज़ क्लिनिक सर्विस की शुरूआत की है। यह सर्विस 60 साल से अधिक उम्र के उन यूज़र्स के लिए फायदेमंद होगी जो अनियन्त्रित टाईप-1 डायबिटीज़ से पीड़ित हैं। चूकि डायबिटीज़ जैसी क्रोनिक बीमारियों से पीड़ित मरीज़ों में कोविड-19 के कारण जटिलताओं की संभावना अधिक होती है, इसलिए उन्हें घर से बाहर जाते समय ज़रूरत से ज़्यादा एहतियात बरतने चाहिए। ऐसी परिस्थितियों में इन मरीज़ों के लिए डाॅक्टर के पास जाना संभव नहीं है। दूसरे और तीसरे स्तर केे शहरों में स्थिति और भी गंभीर है, क्योंकि इन शहरों के मरीज़ों को डाॅक्टर से मिलने के लिए बड़े शहरों का रूख करना पड़ता है। समय पर इलाज और फाॅलो-अप न हो पाने के कारण इन मरीज़ों में जटिलताओं की संभावना और अधिक बढ़ जाती है। डायबिटीज़ के मरीज़ों की इन परेशानियों को हल करने के लिए बीटो ने अपने वर्चुअल डायबिटीज़ क्लिनिक की शुरूआत की है- जो उन उपयोगकर्ताओं के लिए निःशुल्क उपलब्ध है- जिन्हें बीटो के एआई ट्राईएजिंग सिस्टम हेल्थन्यूरोनज्ड के माध्यम से पहचाना जाता है। वर्तम

राजस्थान में 90ः के साथ 5 जिले और 80ः से अधिक रिकवरी वाले 11 जिले

Image
जयपुर 21 अगस्त 2020 –  जयपुर कोविड-19 ने दुनिया भर में स्वास्थ्य प्रणाली को अपंग बना दिया है, लेकिन कई देशों को आबादी बचाने में अपनी मजबूत रीढ़ दिखाने का अवसर भी दिया है। जब भारत की बात आती है, तो वैश्विक मीटर ने हमें कई अन्य शक्तिशाली राष्ट्रों की तुलना में स्वास्थ्य प्रणाली में बहुत पीछे पाया और देश में स्वास्थ्य बुनियादी प्रणाली की बेहतरी के लिए काम करने के लिए कोरोनॉयरस एक चेतावनी के रूप में आया। अशोक गहलोत, मुख्यमंत्री, राजस्थान के नेतृत्व में स्वास्थ्य संकट से निपटने के लिए कई मानक तय किए हैं। सुनियोजित भीलवाड़ा मॉडल, बीकानेर की 3-लेयर सम्मिलन कार्यनीति और अन्य मॉडल है। अब, अशोक गहलोत, मुख्यमंत्री की पहल नीरोगी राजस्थान पुर्ण होने जैसा प्रतीत होता है क्योंकि राजस्थान के कुल जिलों में लगभग आधे जिले में मरिजों कि संख्या 80ः से अधिक की रिकवरी कर चुके हैं और उनमें से पाँच जिले के मरिज 90ः से अधिक रिकवरी के साथ स्वास्थ हैं। चूरू 90.2ः, जालोर 96.3ः, झुंझनू 91.4ः, पाली 91.2ः और सिरोही 90.6ः ऐसे पांच जिले हैं जो पूर्ण रिकवरी की दिशा में तेजी से बढ़ रहे हैं। 80ः से अधिक रिकवरी दर वाले जिले