Posts

Showing posts with the label Education

CASE India ने पीथमपुर में कौशल विकास केंद्र का उद्घाटन किया

Image
इंदौर 07 जून 2022: CNH Industrial के ब्रांड, केस कंस्ट्रकशन इक्विपमेंट ने कौशल विकास केंद्र का उद्घाटन किया। इस केंद्र का उद्देश्य लोडर बैकहो के परिचालन के बारे में अच्छी समझ और प्रशिक्षण प्रदान करना है। यह पहल हर साल 240 पेशेवरों को प्रशिक्षण देकर केंद्र सरकार के स्किल इंडिया मिशन में योगदान करती है। 1200 वर्गफीट के इस प्रशिक्षण केंद्र में थ्योरी क्लास और परामर्श के लिए समर्पित दो कक्षाएं शामिल हैं। यह केंद्र सोनवई, राऊ, पीथमपुर में स्थित है। इसका उद्घाटन श्री आर के भावर, सीजीएम, एमपीआईडीसी, सुश्री लता किनवानी, राज्य कौशल विकास निगम की सलाहकार, श्री प्रदीप मधुकर, प्रिंसिपल नोडल आईटीआई, श्री राम किसन सोलंकी, सरपंच, सोनवई, श्री अभिजीत गुप्ता, उत्पाद विकास प्रमुख, केस कंस्ट्रक्शन इंडिया, श्री सतेंद्र तिवारी - प्लांट हेड, श्री पुनीत विद्यार्थी - हेड मार्केटिंग और बिजनेस डेवलपमेंट, और केस कंस्ट्रक्शन इंडिया के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में हुआ। इस अवसर पर, श्री सतेंद्र तिवारी, प्लांट हेड - केस कंस्ट्रक्शन, इंडिया ने कहा, "हमें केंद्र की स्थापना की घोषणा करते हुए खुशी हो रही ह

राजस्थान के पाली जिले में शिक्षा और अधिकारिता के स्तंभ अंबुजा पब्लिक स्कूल ने पूरे किए 25 साल

Image
मुंबई, 25 मई, 2022- भारत की सबसे सस्टेनेबल सीमेंट कंपनियों में से एक अंबुजा सीमेंट्स लिमिटेड ने सगर्व यह घोषणा की है कि राजस्थान के पाली जिले में स्थापित अंबुजा पब्लिक स्कूल ने अपनी स्थापना के 25 साल पूरे कर लिए हैं और इस साल यह स्कूल रजत जयंती वर्ष का जश्न मना रहा है। कंपनी ने अपने कर्मचारियों और विनिर्माण संयंत्रों के आसपास के समुदायों के बच्चों के लिए इस स्कूल की स्थापना की है। 1996 में राजस्थान के पाली जिले के जैतारण में स्थापित अंबुजा पब्लिक स्कूल इस क्षेत्र का पहला ऐसा स्कूल है जिसने सीबीएसई बोर्ड से संबद्धता हासिल की। आज यह राज्य में सबसे अधिक मांग वाले शैक्षणिक संस्थानों में से एक है, जिसमें 1,000 से अधिक छात्र अध्ययन कर रहे हैं। स्कूल 50 किलोमीटर के दायरे में लोगों की जरूरतों को पूरा करता है, जिसमें कम से कम 16 गांव और छोटे शहर शामिल हैं। यह इस क्षेत्र में रहने वाले लोगों के लिए ज्ञान का नखलिस्तान साबित हुआ है, और आर्थिक रूप से वंचित परिवारों के बच्चों को भी शिक्षा प्रदान करता है। अंबुजा पब्लिक स्कूल ने समाज में विश्वास व्यक्त किया और इस क्षेत्र में रहने वाले समुदायों ने इस वि

सनस्टोन ने जयपुर में किया अपना विस्तार, जेईसीआरसी युनिवर्सिटी को अपने नेटवर्क में शामिल किया

Image
जयपुर, 25 मई, 2022ः भारत के अग्रणी उच्च शिक्षा सेवाओं प्रदाताओं में से एक सनस्टोन जिसकी 25 शहरों में 30 से अधिक संस्थानों के साथ सशक्त मौजूदगी है, ने जेईसीआरसी युनिवर्सिटी को अपने साथ जोड़ते हुए राजस्थान के जयपुर में अपने कैम्पस नेटवर्क का विस्तार किया है। नई दिल्ली के युनिवर्सिटी ग्रांट्स कमिशन (यूजीसी) द्वारा मान्यता प्राप्त तथा एनएएसी द्वारा प्रत्यायित जेईसीआरसी युनिवर्सिटी विभिन्न विषयों में कई तरह के प्रोग्राम तथा विभिन्न स्तरों पर यूजी, पीजी एवं पीएचडी प्रोग्राम पेश करती है। इस विस्तार के साथ सनस्टोन द्वारा उपलब्ध कराए जाने वाले अतिरिक्त फायदे, अब जेईसीआरसी युनिवर्सिटी के एमबीए, बीबीए, बीसीए, बी.कॉम और एमसीए प्रोग्रामों के साथ मिलेंगे। जिससे छात्र युनिवर्सिटी स्तर पर ही इंडस्ट्री की ज़रूरत के मुताबिक शिक्षा एवं कौशल प्रोग्राम पूरे कर नौकरियों के लिए तैयार हो सकेंगे। वे सनस्टोन के 1000 से अधिक रिक्रुटर्स के नेटवर्क के साथ जुड़ेंगे और 2000 से अधिक नौकरियों के अवसरों का लाभ उठा सकेंगे। इस तरह छात्रों को शीर्ष पायदान की कंपनियों में प्लेसमेन्ट के अच्छे अवसर मिलेंगे। देश भर से छात्र उच्च

महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय जयपुर में कक्षा नर्सरी से 8वीं तक के विद्यार्थियो हेतु प्रवेश प्रक्रिया का आरंभ

Image
जयपुर 21 मई 2022:  महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय मानसरोवर जयपुर में कक्षा नर्सरी से 8वीं तक के विद्यार्थियो हेतु प्रवेश प्रक्रिया का आरंभ दिनांक 02 मई, 2022 से किया गया जिसमें ऑफलाइन एवं ऑनलाइन कुल 2129 आवेदन फार्म स्वीकार किए गए ।  विद्यालय की कक्षा नर्सरी, 3, 7 एवं 8 की कुल 58 रिक्त सीटो पर लॉटरी के माध्यम से दिनांक 14 मई, 2022 को श्री बिहारी लाल (अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक (मुख्यालय) जयपुर), श्रीमती अनु चौधरी (प्रधानाचार्य), श्री के॰ के॰ गुप्ता, श्री मनोज अग्रवाल, श्रीमती वीना जैन आदि एसडीएमसी के सदस्य तथा अभिभावक जन की उपस्थिति में प्रवेश लॉटरी निकाली गई। लॉटरी के परिणाम संबंधित (कक्षा नर्सरी, 3, 7 एवं 8) एवं प्रतीक्षा सूची (शेष कक्षाओ की) दिनांक 15 मई 2022 को अभिभावकों एवं आगन्तुको के अवलोकनार्थ हेतु विद्यालय सूचना पट्ट पर चस्पा की गयी ।

स्कूलनेट सर्वे : भारतीय माता - पिता सरकारी स्कूलों में शिक्षा के लिए सालाना 20,000 रुपये और अ-सहायता प्राप्त निजी स्कूलों में 47,000 रुपये खर्च करते हैं ।

Image
सर्वेक्षण में देश भर के माता - पिता द्वाराशिक्षा पर वार्षिक खर्च का आकलन किया गया। सर्वे के मुख्य निष्कर्षः ● निजी अ-सहायता प्राप्त स्कूलों में वार्षिक स्कूल ट्यूशन फीस पर औसत खर्च 27,000 रुपये है जबकि सरकारी स्कूलों में यह 8,000 रुपये है ● यह देखा गया हैं की सरकारी स्कूलों ( 48 % ) और अ-सहायता प्राप्त निजी स्कूलों ( 49 % ) के लगभग आधे छात्रों के माता - पिता पूरक शिक्षा पर वार्षिक 10,000 - 20,000 रुपये का अतिरिक्त खर्च उठाते हैं । स्कूल का प्रकार स्कूली शिक्षा पर औसत खर्च पूरक शिक्षा पर औसत खर्च सरकार रु 20,000 (ट्यूशन फीस: रु 8,000) रु 14,000 निजी अ- सहायता प्राप्त रु 47,000 (ट्यूशन फीस: रु 27,000) रु 18,000 राष्ट्रीय , xx , 2022 - स्कुलनेट इंडिया लिमिटेड , एक अग्रणी एडटेक सेवा प्रदाता है जो सभी के लिए गुणवत्तापूर्ण शिक्षा तक पहुंच को बेहतर बनाने के लिए काम करती हैं, ने अपने सर्वेक्षण - ' Understanding Indian School Education Spends Landscape’. के निष्कर्षों को जारी किया। यह अध्ययन भारत के निजी और सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे बच्चो के स्कूल और शिक्षा पर होने वाले समग्र खर्च पर पीजीए

लीड ने बोर्ड परीक्षाओं में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिये टियर 2+ कस्बों के होनहार विद्यार्थियों की मदद करने के लिये ‘सुपर 100 प्रोग्राम’ लॉन्च किया

Image
मुंबई , 10 मई , 2022: भारत की सबसे बड़ी स्‍कूल एडटेक कंपनी लीड यह सुनिश्चित करने का प्रयास कर रही है कि भारत के छोटे कस्‍बों के सबसे मेधावी विद्यार्थी अपनी पूरी शैक्षणिक क्षमता को प्राप्‍त कर सकें। इसी सिलसिले में, लीड ने आज अपने खास तरीके से तैयार किये गये कोचिंग, ट्यूटरिंग एवं मेंटरिंग प्रोग्राम ‘ सुपर 100 ’ के लॉन्‍च की घोषणा की है। लीड का सुपर 100 प्रोग्राम अवसर की उस असमानता को दूर करने के लिये डिजाइन किया गया है, जो आमतौर पर भारत के छोटे कस्‍बों के प्रतिभाशाली विद्यार्थियों के सामने होती है, जब वे पढ़ाई में उत्‍कृष्‍टता प्राप्‍त करना चाहते हैं। यह प्रोग्राम टियर 2+ शहरों में रहने वाले भारत के सर्वश्रेष्‍ठ विद्यार्थियों के लिये व्‍यापक, निजीकृत शैक्षणिक मार्गदर्शन; ट्यूटरिंग; और प्रैक्टिस उपलब्‍ध कराता है, ताकि वे मेट्रो शहरों के अपने समकक्षों के साथ बराबरी कर सकें। सुपर 100 के तहत, लीड-पावर्ड सीबीएसई स्‍कूलों में शैक्षणिक वर्ष 2022-23 के लिये 10वीं कक्षा में प्रवेश कर रहे टॉप 100 विद्यार्थियों का चयन एक परीक्षा से किया जाएगा और उन्‍हें पूरे साल के लिये छात्रवृत्ति दी जाएगी। लीड ग

भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी ने अपने पहले दीक्षांत समारोह में 236 विधार्थियों को कौशल शिक्षा में डिग्रियां प्रदान की

Image
जयपुर ,07 मई 2022 : भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी  (बीएसडीयू) ने आज अपना पहला दीक्षांत समारोह महिंद्रा वर्ल्ड सिटी जयपुर में अपने कैंपस  में  भव्य  तरीके से  एक उत्सव  के रूप में आयोजित किया । कार्यक्रम में बैचलर ऑफ़ वोकेशन (बी. वोक.)  के 221, मास्टर ऑफ़ वोकेशन (एम.वोक.) के 10 और 5 स्टूडेंट्स को पीएच. डी.  की डिग्रियों  से सुशोभित किया गया । इस प्रकार कुल 236  छात्र/छात्राओं को उनके  अलग अलग कौशल क्षेत्रों में   डिग्रियां प्रदान की गई। डॉ. राजेंद्र कुमार जोशी और श्रीमती उर्सुला जोशी के दूरदर्शी नेतृत्व में स्थापित भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी ने अपने स्थापना के बाद थोड़े समय में ही अपनी विशिष्ट  पहचान बना ली है। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि *अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई)  के चेयरमैन प्रोफेसर अनिल डी सहस्त्रबुद्धे* ने  यूनिवर्सिटी में अपनी पिछली यात्रा के दौरान डॉक्टर राजेंद्र कुमार जोशी और श्रीमती उर्सुला  जोशी के साथ हुई मुलाकात को याद किया और भारत में कौशल शिक्षा  के क्षेत्र में किए गए उनके प्रयासों व अभूतपूर्व योगदान  की दिल से सराहना की और आशा व्यक्त की कि   भारत क

वोडाफोन आइडिया फाउन्डेशन वंचित समुदायों के छात्रों को डिजिटल लर्निंग कौशल के साथ सशक्त बनाने के लिए स्कूलों में स्थापित करेगी रोबोटिक लैब्स

Image
मुंबई, 06 मई 2022: चौथी ओद्यौगिक क्रांति तथा भावी पीढ़ी के लिए रोज़गार के अवसरों को सुनिश्चित करने के लिए डिजिटल कौशल बेहद महत्वपूर्ण है। स्कूल स्तर पर भी छात्रों को भविष्य के लिए तैयार करने के उद्देश्य के साथ वी की सीएसआर शाखा वोडाफोन आइडिया फाउन्डेशन ने देश भर के दस स्कूलों में आधुनिक रोबोटिक लैब्स की स्थापना के लिए एरिकसन इंडिया के साथ साझेदारी की है, इस साझेदारी के तहत वंचित समुदायों के बच्चों को आधुनिक लर्निंग उपलब्ध कराकर उन्हें भावी टेक्नोलॉजी के लिए तैयार किया जाएगा। आधुनिक एजुकेशन प्रोग्राम डिजिटल लैब्स की अवधारणा 11-14 वर्ष के स्कूली छात्रों के लिए तैयार की गई है, जो उन्हें प्रोग्रामिंग और नई टेक्नोलॉजी से अवगत कराएगी। लर्निंग का खुला माहौल प्रदान कर ये डिजिटल लैब्स छात्रों को आधुनिक तकनीक को अपनाने के लिए प्रेरित करेंगी उन्हें समस्या के समाधान का सकारात्मक दृष्टिकोण प्रदान करेेंगी। यह साझेदारी विज्ञान, टेक्नोलॉजी, इंजीनियरिंग एवं गणित (स्टेम) में लर्निंग के अवसर उपलब्ध कराकर उनकी शिक्षा और रोज़गार के अवसरों में सुधार लाएगी। उनमें विभिन्न प्रकार का कौशल जैसे टीमवर्क, समस्या के स

स्कूलनेट राजस्थान सरकार के सहायक के रूप में 6,500 स्कूलों में जीनियो और ‘रीडटूमी’ प्रदान करेंगे

Image
राजस्थान, 05 अप्रैल 2022: आज स्कूलनेट, जो स्कूलों को प्रौद्योगिकी आधारित शिक्षा सेवाएं प्रदान करने वाली एक अनूठी और अग्रणी एडटेक कंपनी है, ने राजस्थान सरकार के साथ मिलकर राजस्थान के सभी 33 जिलों में 6,500 सरकारी स्कूलों में जीनियो और रीडटुमी® के साथ शिक्षक प्रशिक्षण सेवाएं प्रदान करने की घोषणा की है। गूगल फॉर एजुकेशन की सहायता से इसके तहत राज्य भर के दस लाख से अधिक विद्यार्थी डिजिटल लर्निंग टेक्नोलॉजी के साथ पढ़ पाएंगे. इसके लिए शिक्षकों को डिजिटल शिक्षण में प्रशिक्षित भी किया जाएगा। जीनीओ एक किफ़ायती ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म हे जो विद्यार्थियों के लिए स्कूल के साथ और स्कूल के बाद की पढ़ाई में मदद करता हैं। यह स्कूल की पाठ्यपुस्तक के डिजिटल संस्करण का उपयोग करता है जिसके साथ अन्य प्रकार के शिक्षण संसाधनों भी उपलब्ध कराता है। यही कारण है कि जीनियो पढ़ाई को अधिक रुचिकर बना कर नवाचार को भी बढ़ावा देता है। ReadToMe® एक एआई-पावर्ड तकनीक है, जो टेक्स्ट-टू-स्पीच फ़ंक्शन का उपयोग करके अंग्रेजी में निर्धारित पाठ्यक्रम के बहु-संवेदी पठन को सक्षम बनाता है। शिक्षा विभाग के साथ MOU पर डॉ. रश्मि शर्मा

एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट और बोधि ट्री सिस्टम के साझेदारी की घोषणा

Image
बोधि ट्री 600 मिलियन डॉलर के निवेश से एलन के साथ मिलकर स्टूडेंट्स को डिजिटल माध्यम से शिक्षा के क्षेत्र में मदद करेगी मुम्बई/कोटा 02 मई 2022 . शिक्षा के क्षेत्र में विश्व में सबसे विश्वसनीय और श्रेष्ठ व्यवस्था उपलब्ध करवाने के लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट और बोधि ट्री सिस्टम्स ने हाथ मिलाया है। शिक्षा के क्षेत्र में भारत में बड़े समझौते की घोषणा रविवार को की गई। इस समझौते के बाद देश-दुनिया के स्टूडेंट्स को डिजिटल माध्यम से शिक्षा उपलब्ध करवाने के और बेहतर अवसर उपलब्ध हो सकेंगे। शिक्षा के क्षेत्र को विस्तार देने और देश-दुनिया के स्टूडेंट्स की शिक्षण से संबंधित समस्याओं के समाधान के लिए बोधि ट्री 600 मिलियन डॉलर का निवेश एलन के साथ करेगा। शर्तों और अपेक्षित अनुमोदन के साथ वित्तीय लेन-देन के लिए तीन माह का समय रखा गया है। इस समझौते में ई-वाय ने विशेष वित्तीय सलाहकार के रूप में कार्य किया। साइरल अमरचंद मंगलदास ने एलन को कानूनी सलाह और डॉक्यूमेंटेशन में सहायता प्रदान की। ई-वाय ने बोधि ट्री को अपनी सेवाएं दी। एजेडबी एण्ड पार्टनर्स बोधि ट्री के कानूनी सलाहकार रहे। एलन कॅ

"आईआईएम उदयपुर ने अपने 10वें वार्षिक दीक्षांत समारोह में 392 छात्रों को एमबीए की डिग्री प्रदान की"

Image
28 अप्रैल, 2022; उदयपुर: उत्कृष्टता के एक दशक का जश्न मनाते हुए, भारतीय प्रबंधन संस्थान उदयपुर ने अपने प्रमुख दो वर्षीय एमबीए (बैच 2020-22), एक वर्षीय एमबीए ग्लोबल सप्लाई चैन मैनेजमेंट और डिजिटल एंटरप्राइज मैनेजमेंट (बैच 2021-22) और पीएचडी की डिग्री प्रदान करने हेतु अपने 10वें वार्षिक दीक्षांत समारोह की मेजबानी अपने प्राचीन 300 एकड़ के परिसर बलिचा उदयपुर में की। आईआईएम उदयपुर के बोर्ड ऑफ गवर्नर्स के अध्यक्ष श्री पंकज पटेल ने दीक्षांत समारोह की अध्यक्षता की। दीक्षांत भाषण आईटीसी लिमिटेड के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक श्री संजीव पुरी द्वारा दिया गया, जो दीक्षांत समारोह के मुख्य अतिथि थे और समापन भाषण आईआईएम उदयपुर के निदेशक प्रो जनत शाह द्वारा किया गया। दीक्षांत समारोह में आईआईएम उदयपुर के शिक्षकों और कर्मचारियों के अलावा स्नातक बैचों के माता-पिता और रिश्तेदार शामिल थे। 10वें वार्षिक दीक्षांत समारोह में एक पीएच.डी. सहित कुल 392 विद्यार्थियों को डिग्री प्रदान की गयी। दो वर्षीय एमबीए (बैच 2020-22) के 317 छात्र और एक वर्षीय एमबीए जीएससीएम और एक वर्षीय एमबीए डीईएम, (बैच 2021-22) के 74 छात्रों न

देश की अग्रणी एजुटेक कंपनी उत्कर्ष ने बनाया भारत का पहला डिजिटल क्लासरूम ऑन व्हील्स‘शिक्षा रथ'

Image
राजस्थान , अप्रैल 13, 2022 : देश की अग्रणी एजुटेक कंपनी उत्कर्ष क्लासेस ने आज भारत का पहला डिजिटल क्लासरूम ऑन व्हील्स - 'शिक्षा रथ' लॉन्च किया। अपनी तरह की इस अनूठी पहल का उद्देश्य पूरे भारत में व खासतौर से ग्रामीण हिस्सों में छात्रों को लाइव डिजिटल लर्निंग अनुभव प्रदान करके देश की शिक्षण प्रणाली में क्रांति लाना है। क्या है इस शिक्षा रथ में ? इस शिक्षा रथ में 4K इंटरेक्टिव पैनल व अत्याधुनिक कैमरों से युक्त डिजिटल स्टूडियो है।इंटरनेट की भी व्यवस्था है जिसके माध्यम से शिक्षा रथ से विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर कक्षाएँ लाईव की जाकेगी।इसके अलावा यह ‘शिक्षा रथ’ किसी बड़ी सेलिब्रिटी की वेनिटी वेन की भाँति बेडरूम,किचन,बाथरूम,डाईनिंग रूम इत्यादि सभी सुविधाओं से युक्त है। 'शिक्षा रथ' अभिभावकों और बच्चों दोनों के बीच डिजिटल शिक्षा के लाभ के बारे में जागरूकता फैलाने में एक सहायक के रूप में कार्य करेगा। चूंकि कई शहरों और गाँवों में अच्छे शिक्षक नहीं मिल पाते हैं, इसलिए माता-पिता एक डिजिटल स्टूडियो के कामकाज को देख सकेंगे और अनुभव कर सकेंगे कि कैसे उनके बच्चे अपने घर पर देश के

आईआईएम उदयपुर ने लॉन्च किया बिजनेस रिव्यू मैगजीन का दूसरा संस्करण

Image
उदयपुर, 25 मार्च 2022- भारतीय प्रबंधन संस्थान उदयपुर ने आज अपनी द्विवार्षिक आईआईएमयू बिजनेस रिव्यू पत्रिका के दूसरे अंक को लॉन्च किया। इस पत्रिका के प्रकाशन का उद्देश्य प्रेक्टिशनर्स के लिए उच्च गुणवत्ता वाले, प्रभाव छोड़ने में सक्षम रिसर्च को सुलभ बनाना और उन्हें विशेषज्ञों के ऐसे विशिष्ट ज्ञान से रूबरू कराना है, जिसे मैनेजमेंट प्रोफेशनल्स के लिए मूल्यवान माना जाता है।  मैगजीन के दूसरे अंक में सप्लाई चेन मैनेजमेंट (एससीएम) से संबंधित आलेख शामिल किए गए हैं। साथ ही इस संबंध में विशेषज्ञों के विचार भी लिए गए हैं, जिनमें सप्लाई चेन को बेहतर तरीके से मैनेज करने के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी दी गई है। इसके अलावा, भविष्य के कारोबारों पर सप्लाई चेन मैनेजमेंट के संभावित असर की चर्चा भी की गई है और सप्लाई चेन मैनेजमेंट की दुनिया में होने वाले तकनीकी परिवर्तनों पर भी रोशनी डाली गई है। पत्रिका के लिए अपने संपादकीय संदेश में आईआईएम उदयपुर के डायरेक्टर प्रो जनत शाह ने कहा, ‘‘आईआईएमयू का लक्ष्य न केवल रिसर्च को बढ़ावा देना है, बल्कि इसके प्रभाव को सुनिश्चित करना भी है। वैश्विक स्तर पर होने वाली तकनीक

लीड की देशव्यापी स्टूसडेंट चैम्पियनशिप में राजस्थान का जलवा

Image
राजस्‍थान , 23 मार्च 2022: लीड चैम्पियनशिप्‍स 2021 में राजस्‍थान के विद्यार्थी सबसे ज्‍यादा अंक पाने वालों में शामिल रहे और विभिन्‍न आयु समूहों के प्रतिभागियों ने अलग-अलग श्रेणियों में जीत हासिल की। भारत के 1200 से ज्‍यादा स्‍कूलों के 40,000 विद्यार्थियों ने चैम्पियनशिप में भाग लिया और इस प्रकार यह भारत में सबसे बड़ी प्रतिस्‍पर्धा थी। लीड चैम्पियनशिप्‍स 2021 का आयोजन के-12 सेगमेंट में भारत की सबसे बड़ी स्‍कूल एडटेक कंपनी लीड ने किया था। यह कंपनी विद्यार्थियों के लिये पढ़ाई के परिणामों को सुधारने पर केन्द्रित है। लीड की स्‍टूडेंट चैम्पियनशिप राष्‍ट्रीय स्‍तर पर एक्‍सपोजर देने और सर्वांगीण विकास के लिये एक प्‍लेटफॉर्म देती है, खासकर गैर-महानगरी शहरों में, जहाँ स्‍कूली विद्यार्थियों की पहुँच आमतौर पर ऐसे अवसरों तक नहीं होती है। 2021 का संस्‍करण चार श्रेणियों में विभिन्‍न आयु समूहों के विद्यार्थियों के लिये खुला था: ‘इंग्लिश चैम्‍प्‍स’, ‘साइंस चैम्‍प्‍स’, ‘क्विज़ चैम्‍प्‍स’ और ‘लिटिल चैम्‍प्‍स’। लीड विद्यार्थियों को रचनात्‍मक चिंतन, पठन, श्रवण, समझ और विज्ञान-आधारित अवधारणाओं का प्रयोग कर

आईआईएम उदयपुर ने देश में हेल्थकेयर मैनेजमेंट के लिए डिजिटल सॉल्यूशंस पर केंद्रित वेबिनार का किया आयोजन, 800 से अधिक प्रोफेशनल हुए शामिल

Image
उदयपुर, 17 मार्च, 2022- भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम) उदयपुर ने हेल्थकेयर मैनेजमेंट की दुनिया में डिजिटल सॉल्यूशंस पर केंद्रित डिजिटल हेल्थस्केप वेबिनार का आयोजन किया। इस वेबिनार में देश में प्रभावी हेल्थकेयर मैनेजमेंट के लिए संभावित डिजिटल सॉल्यूशंस पर विचार-विमर्श किया गया। आईआईएम उदयपुर के सेंटर ऑफ हेल्थकेयर और सेंटर ऑफ एक्सीलेंस इन डिजिटल एंटरप्राइज मैनेजमेंट ने संयुक्त रूप से इसका आयोजन किया। वेबिनार की थीम ‘रिथिंकिंग हेल्थकेयर मैनेजमेंट विद डिजिटल सॉल्यूशंस’ रखी गई और इसमें 800 से अधिक प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। इनमें आईआईएम उदयपुर के फैकल्टी, स्टाफ और छात्रों के साथ-साथ हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स, मेडिकल प्रैक्टिशनर्स, मेडिकल रिसर्चर्स और डिजिटल हेड्स थे।  वेबिनार में शामिल लोगों को संबोधित करते हुए, आईआईएम उदयपुर के डायरेक्टर प्रो जनत शाह ने कहा, ‘‘यह दूसरा ऐसा वेबिनार है जिसका आयोजन आईआईएम उदयपुर की दशक की सालगिरह समारोह के एक भाग के रूप में किया जा रहा है। हमारा मानना है कि हेल्थकेयर मैनेजमेंट के लिए डिजिटल सॉल्यूशंस एक बहुत ही महत्वपूर्ण क्षेत्र है और अब वो वक्त आ गया है, जब

एजुकेशन फाइनेंस के फासले को दूर करने में जुटी एसीसी विद्या सारथी योजना, 2400 से अधिक विद्यार्थियों को दी छात्रवृत्ति

Image
मुंबई , 17 मार्च , 2022 - एसीसी लिमिटेड की कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी (सीएसआर) शाखा एसीसी ट्रस्ट ने पिछले 5 वर्षों में देश के विभिन्न हिस्सों से 2400 से अधिक छात्रों को कुल 4.5 करोड़ रुपए की छात्रवृत्ति प्रदान की है। एसीसी ट्रस्ट अपने प्लेटफॉर्म एसीसी विद्या सारथी के माध्यम से ये छात्रवृत्तियां प्रदान करता रहा है। भारत में बेहतर उच्च शिक्षा के अवसरों के लिए योग्य मेधावी छात्रों को छात्रवृत्ति उपलब्ध करवाने के लिए 2017 में लॉन्च हुई एसीसी विद्या सारथी , एनएसडीएल ई-गांव के साथ संयुक्त सहयोग में एक तकनीक आधारित पहल है। अपनी शुरुआत के बाद से एसीसी विद्या सारथी ने अब तक 2464 छात्रों को लाभान्वित किया है। यह प्लेटफार्म भारत में एजुकेशन फाइनेंस की खाई को पाटने में मदद कर रहा है , क्योंकि यह गैप देश के विकास में एक बड़ी बाधा है। महामारी के दौरान यह प्लेटफॉर्म और भी महत्वपूर्ण हो गया क्योंकि इसने ग्रामीण परिवारों के वित्तीय बोझ को दूर किया और विद्यार्थियों को अपने शैक्षणिक लक्ष्यों को पाने में सशक्त बनाया। एसीसी विद्या सारथी ने उन विद्यार्थियों की सहायता की जिन्हें आर्थिक मदद की आवश्यकत

डिजिटल स्वास्थ्य पर आईआईएम उदयपुर करेगा एक अनूठे वेबिनार का आयोजन डिजिटल सॉल्यूशंस के साथ हेल्थकेयर मैनेजमेंट पर होगा गहन विचार-विमर्श

Image
उदयपुर, 09 मार्च, 2022- विश्व स्तर पर मान्यता प्राप्त प्रमुख बी-स्कूलों में से एक भारतीय प्रबंधन संस्थान, उदयपुर ने देश में प्रभावी स्वास्थ्य देखभाल के लिए डिजिटल सॉल्यूशंस को परखने के लिहाज से एक वेबिनार आयोजित करने की घोषणा की है। 16 मार्च, 2022 को होने वाले इस वेबिनार का आयोजन आईआईएम उदयपुर के सेंटर फॉर हेल्थकेयर और सेंटर फॉर डिजिटल एंटरप्राइज संयुक्त रूप से करेंगे। इस वेबिनार में स्वास्थ्य देखभाल से संबंधित प्रणाली में डिजिटल स्वास्थ्य समाधानों के बढ़ते उपयोग पर चर्चा की जाएगी। साथ ही वर्तमान दौर में उनकी उपयोगिता और उनके महत्व पर भी विचार-विमर्श किया जाएगा। खास तौर पर कोरोना महामारी के खिलाफ चल रहे संघर्ष के इस दौर में यह चर्चा अत्यंत महत्वपूर्ण मानी जा रही है। हाल ही केंद्र सरकार ने आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के लिए 1600 करोड़ रुपए का बजट मंजूर किया है। इसके अलावा देश में स्वास्थ्य देखभाल प्रबंधन संबंधी चुनौतियों के मद्देनजर भी इस वेबिनार को महत्वपूर्ण माना जा रहा है। वेबिनार में श्री किरण आनंदमपल्ली, सीईओ और फाउंडर - आईदृष्टि और नेशनल हेल्थ अथॉरिटी के  सलाहकार (टैक्नोलॉजी) उद्घाटन

लड़कियों के लिये ज्याेदा स्टेम की शिक्षा को प्रोत्सावहित करते हुए ओले ने भारत के स्कूल एडटेक यूनिकॉर्न लीड के साथ मिलकर #STEMTheGap के लिये छात्रवृत्तियों की फंडिंग की

Image
  मार्च   04, 2022 , मुंबई: ऐसा क्‍यों होता है कि लड़कियों को उनके जन्‍मदिन पर किचन सेट्स दिये जाते हैं , जबकि लड़कों को खिलौने वाले रोबोट या कंस्‍ट्रक्‍शन सेंट्स दिये जाते हैं? क्‍या हमारे अवचेतन में छिपा लैंगिक पक्षपात लड़कियों को पीछे खींच रहा है ? संयुक्‍त राष्ट्र के अनुसार , भारत में स्‍टेम (एसटीईएम यानी साइंस, टेक्नोलॉजी, इंजीनियरिंग और मैथमेटिक्स) के कार्यबल में महिलाएं केवल 14% हैं। विज्ञान के ब्रांड होने के साथ-साथ महिलाओं का भी सगर्व अग्रणी स्किनकेयर ब्रांड, ओले का मानना है कि दुनिया को स्‍टेम में ज्‍यादा महिलाओं की जरूरत है और यह कि अब भारत में स्‍टेम के मामले में लैंगिक अंतर का समीकरण बदलने का वक्त आ गया है। सांस्‍कृतिक बाधाओं और रूढि़वादी लैंगिक भूमिकाओं में फँसी महिलाओं को अक्‍सर देखभाल करने वालीं या गृहिणी माना जाता है और उनके अध्‍ययन क्षेत्र को पढ़ाने , नर्सिंग , फाइन आर्ट्स और घरेलू अर्थशास्‍त्र , आदि तक सीमित रखा जाता है। इसलिये ओले ने #STEMTheGap पहल लॉन्च की है , जिसके हिस्‍से के तौर पर ब्राण्‍ड भारत की ज्‍यादा से ज्‍यादा लड़कियों को निडर होकर स्‍टेम शिक्षा और